Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

प्रदूषण के खिलाफ जंग-- हरियर अभियान

>> 17 जुलाई, 2010

            




 छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से 20 कि. मी. दूर रायपुर में आज एक लाख पौधे रोप कर नया इतिहास रचा है। छत्तीसगढ़ के गर्वनर शेखरदत्त, मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह, उनके मंत्रीमंडल के सदस्य, जनप्रतिनिधि, अधिकारी, कर्मचारी, किसान, मजदूर एवं स्कूली बच्चे सबने इस पावन कार्य पर होम दिया। चारो तरफ उत्साह और उमंग का माहौल दृष्टिगोचर हो रहा था । स्कूली बच्चो में काफी उत्साह दिखाई दे रहा था। नई राजधानी स्थल में पहली बार आने की खुशी भी थी । सबने पेड़ लगाये। कितना अदभुत दृश्य था। हजारो के संख्या में लोग पौधे रोप रहे थे ।

        हरियर अभियान का शुभारंभ नई राजधानी से किया गया । नई राजधानी हरी भरी एवं खूबसूरत होगी इसकी कल्पना की जा सकती है। एक साल बाद जब नई राजधानी में जब काम काज शुरू होगा तब तक ये पौधे अपना जड़ जमा लेगें । पर्यावरण को स्वच्छ और सुन्दर बनायेगें । आज का अभियान पर्यावरण की रक्षा के लिये आवश्यक था । नई पीढ़ी ने पेड़ के महत्ता  को आज समझा है । दरअसल हरियर अभियान प्रदुषण के खिलाफ एक जंग है इसमें सबको ‘शामिल होना चाहिए। प्रदूषण से देश को बचाना है । हर नागरिक को  शुद्ध वातावरण में जीने का अधिकार  है । प्रदूषण के खिलाफ इस जंग में जनता की सक्रिय भागीदारी आवश्यक है।

खूबसूरत राजधानी का सपना :-
                    इस कार्यक्रम के बहाने बहुतों ने आज नई राजधानी का सिंहावलोकन किया । चारो तरफ सड़को का जाल बिछ रहा है । रायपुर,अभनपुर, आरंग व मंदिरहसौद से नई राजधानी को जोड़ने के लिए फोरलेन व सिक्सलेन की सड़को का निर्माण हो रहा है । मंत्रालय एवं अन्य कार्यालयीन भवनो का निर्माण व्यवस्थित ढंग से हो रहा है देश की सबसे खूबसूरत राजधानी बनाने का वर्तमान सरकार का सपना साकार होता दिखाई दे रहा है ।

4 टिप्पणियाँ:

महेन्द्र मिश्र 17 जुलाई 2010 को 7:05 pm  

इस धरा पर हरियल क्रांति तो आना ही चाहिए....इस पावन कार्य की जानकारी देने के लिए धन्यवाद. ....

ललित शर्मा 18 जुलाई 2010 को 8:44 am  

पर्यावरण को बचाने लिए जागरुकता अत्यावश्यक है,
जमीनी स्तर पर काम करने की अधिक आवश्यक्ता है।
जब शुरुवात हो चुकी है तो एक दिन लक्षय की प्राप्ति भी होगी।
सार्थक पहल के लिए,आपका आभार

मस्त रहो मस्ती में,आग लगे बस्ती में

मर्द को दर्द,श्रेष्ठता का पैमाना,पुरुष दिवस,एक त्यौहार

girish pankaj 18 जुलाई 2010 को 11:02 am  

maine bhi ek nara banaya hai. aap ise aage barhayen- hamar chhattisgarh, hariyar chhattisgarh. eemandaree se koshish ho to apnaa rajya svarg ban sakata hai. badhai is rapat k liye.

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP