Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

विचार तत्व

>> 29 जुलाई, 2010

1                  हताश न होना सफलता का मूल है और यही परम सुख है। उत्साह मनुष्य को कर्मो में प्रेरित करता है और उत्साह ही कर्म को सफल बनता है।                                                       - वाल्मीकि


 
2                मनुष्य क्रोध को प्रेम से, पाप को सदाचार से लोभ को दान से और झूठ को सत्य से जीत सकता है।
                                                     - गौतम बुद्ध

 
3                प्रजा के सुख में ही राजा का सुख और प्रजाओं के हित में ही राजा को अपना हित समझना चाहिए। आत्मप्रियता में राजा का हित नहीं है, प्रजाओं की प्रियता में ही राजा का हित है
                                                   - चाणक्य
 
  4              अध्ययन, विचार, मनन, विश्वास एवं आचरण द्वार जब एक मार्ग को मजबूति से पकड़ लिया जाता है, तो अभीष्ट  उद्द्‌ेश्य को प्राप्त करना बहुत सरल हो जाता है।
-                                                      आचार्य श्रीराम शर्मा

  5                देवमानव वे हैं, जो आदर्शों के क्रियान्वयन की योजना बनाते और सुविधा की ललक-लिप्सा को अस्वीकार करके युगधर्म के निर्वाह की काँटों भरी राह पर एकाकी चल पड़ते हैं।
                                                     आचार्य श्रीराम शर्मा
                                                                                                       ( साभार  )

3 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा 29 जुलाई 2010 को 7:58 am  

अच्छी सुक्ति्याँ हैं
जीवन में सद्विचारों का भी बहुत महत्व है

आभार

Udan Tashtari 29 जुलाई 2010 को 9:09 am  

आभार इन विचारों का.

सूर्यकान्त गुप्ता 29 जुलाई 2010 को 3:28 pm  

अच्छी सुक्ति्याँ हैं
जीवन में सद्विचारों का भी बहुत महत्व है

आभार

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP