Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

महंगाई डायन और छत्तीसगढ़

>> 07 अगस्त, 2010




महंगाई डायन और छत्तीसगढ़



इन दिनों फिल्म "पिपली लाईव" की चर्चा जोरों पर है। पत्र-पत्रिकाओं में तो पिपली लाईव पर तरह-तरह के समाचार आ रहे हैं। इलेक्ट्रानिक मिडिया का प्रत्येक चैनल इस पर खबरें बना रहा है। इस फिल्म का गीत "महंगाई डायन खाये जात है............" काफी हिट हो रहा है। मजे की बात तो यह है कि महंगाई डायन और ईधन की महंगाई एक साथ रिलिज हुई। एक तरफ केन्द्र सरकार ने डीजल-पेट्रोल के दाम बढ़ाये तो दूसरी तरफ "पिपली लाईव" का यह गीत मिडिया के माध्यम से प्रचारित हुआ। दोनो बातो का साथ साथ होना महज एक संयोग ही हो सकता है लेकिन इस घटना से हमें दशहरा के अवसर पर गांव में हर वर्ष होने वाले रामलीला की याद हो आई । रामलीला मंडली में दो जोकर होते है जो आम तौर पर रामलीला शुरू होने के पहले मंच पर आते हैं (जोकर के लिए पर्दा उठाने की जरुरत नही पडती) एक जोकर पर्दे के दायी ओर से तथा दूसरा जोकर पर्दे के बायी ओर से निकलता है, दोनों कुछ देर हंसी ठहाका कर दर्शकों का मनोरंजन करते हैं। रामलीला देखने आये दर्शक जोकरों का कार्यक्रम शुरु होते ही व्यवस्थित बैठ जातें है। इस एपिसोड में भी यही हुआ। जोकर की तरह एक तरफ  से डीजल-पेट्रोल की महंगाई वाला समाचार आया तो दूसरी तरफ से महंगाई डायन वाला गाना रिलिज हुआ। लेकिन इस एपिसोड में दर्शक व्यवस्थित नहीं हुए बल्कि पूरे देश में सियासी भूचाल आ गया।इस बार के किरदारों नें दर्शकों को व्यवस्थित करने के बजाय वातावरण को ही अस्त-व्यस्त कर दिया।
महंगाई डायन ने छत्तीसगढ़ की राजनीतिक फिजा में कुछ ज्यादा ही बवाल मचा रखा है। प्रदेश के दो प्रमुख दल आमने-सामने आ गये हैं। दरअसल भाजपा के मुखपत्र"दीप कमल" में महंगाई के प्रतीक के रूप में एक डायन वाला कार्टून प्रकाशित हुआ है । जैसे ही कांग्रेस  के मित्रों को पता चला तो वे सड़क पर आ गये। धरना-प्रदर्शन एवं बयानबाजी का सिलसिला शुरू हो गया। कुछ अतिउत्साही कांग्रेसजनों ने ”पत्रिका” की प्रतियां भी जला डाली। उनका आरोप है कि पत्रिका ने उनके नेता का अपमान किया है। यह अपमान क्यों हुआ, कैसे हुआ, किसके द्वारा हुआ यह लम्बे बहस का विषय है।

जब से सावन का महीना लगा है रोज बौछारें पड रही है। नदी-नाले उफान पर है. सावन की बौछारों की तरह राजनीतिक गलियारों में भी आरोपों के बौछारों का दौर चल रहा है। अभी तो फिल्म ”पिपली लाईव” रिलिज ही नहीं हुई है हमें इंतजार है उसके रिलिज होने का। देखते है सिनेमाघरो में जब यह फिल्म प्रदर्शित होगी तो देश व राज्य की राजनीतिक फिजां पर इसका क्या असर होगा? गैर कांग्रेसी दल तो चाहते ही है कि आम चुनाव तक ये दोनो जोकर मंच में जमे रहे ताकि उन्हे इसका राजनैतिक लाभ चुनाव में मिल जायें, छत्तीसगढ के कांग्रेसी इस मामले में अपने विरोधियों को मदद करते दिखाई दे रहे है।
पिपली लाइव के कलाकार  
छत्तीसगढ़ में "पिपली लाईव" का गहरा रिश्ता है। इस फिल्म से जुडे़ अनेक कलाकार छत्तीसगढ के है। छत्तीसगढ के ओंकारदास  मानिकपुरी नें इसमें मुख्य भूमिका अदा की है। "पिपली लाईव"ने एक सामान्य कलाकार को बालीवुड का स्टॉर बना दिया है। इस फिल्म को अभी अभी डर्बन फिल्म एवार्ड प्राप्त हुआ है। पिपली लाईव में भूमिका अदा करने वाले छत्तीसगढ के महान विभूतियों का लोग जगह-जगह स्वागत सम्मान कर रहे हैं। इन महान सपूतों ने छत्तीसगढ़ माटी की शान बढ़ाई है। वास्तव में ये वंदनीय है। 00309

2 टिप्पणियाँ:

jay 7 अगस्त 2010 को 11:53 pm  

बहुत चुटीले ढंग से अशोक बजाज जी ने सभी घटनाओं को पिरोया है एक साथ...बहुत बधाई. दीप कमल का कार्टून छापने तथा उसका चर्चा करने के लिए धन्यवाद भी.
-पंकज झा.

Swarajya karun 22 अगस्त 2010 को 10:59 pm  

छत्तीसगढ़ की जनता को महंगाई डायन से बचाने के लिए मुख्यमंत्री डाक्टर रमण सिंह सस्ते चावल की योजना चला रहे हैं .
लगभग ३६ लाख गरीब परिवारों को एक रूपए और दो रूपए किलो में हर माह ३५ किलो के हिसाब से चावल दे रहे हैं , दो किलो नमक
मुफ्त में दे रहे हैं , गरीबी रेखा से ऊपर के २० लाख परिवारों को भी सस्ते में तेरह रूपए किलो चावल और दस रूपए किलो गेहूं दे रहे हैं ,
किसानों को खेती के लिए केवल तीन परसेंट ब्याज पर कर्ज लेने की सुविधा भी उन्होंने दी है , लेकिन सवाल यह है कि महंगाई डायन से
भारत को बचाने के लिए 'नयी दिल्ली' क्या कर रही है ? महंगाई डायन के कार्टून पर बवाल मचाने वालों से यह सवाल ज़रूर पूछा जाना
चाहिए . बहरहाल आपने एक ज्वलंत प्रसंग पर लिखा , इसके लिए बधाई और शुभकामनाएं . आगे और भी लिखें , खूब लिखें .
स्वराज्य करुण (दिल की बात )

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP