Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

ब्लागरों के लिए खुशखबरी

>> 04 सितंबर, 2010

ब्लाग जगत की खबरें बनेंगीं अखबारों की सुर्खियाँ

  ब्लाग के दीवानों के लिए यह खुशखबरी से कम नहीं कि आने वाले दिनों में ब्लाक जगत की गतिविधियों की खबरों को अखबारों में स्थान मिलने लगेगा .रायपुर की एक प्रमुख सांध्य दैनिक के सह संपादक ने ब्लाग संबधी चर्चा के दौरान ब्लाक जगत की गतिविधियों के सम्बन्ध में शीध्र ही प्रतिदिन एक पेज के समाचार लगाने की सहमति दी है . है ना यह खुशखबरी . अभी तक कुछ नामीगिरामी हस्तियों द्वारा लिखें गए पोस्ट को ही अखबार वाले छापते रहें है ,लेकिन अब सामान्य ब्लागरो तरफ भी उनका ध्यान जा रहा है .
वास्तव में आने वाला समय ब्लाग का है. अखबार के पाठकों में जब ब्लाग के खबरों के प्रति दिलचस्पी बढ़ेगी तब अन्य अखबारवाले भी उसका अनुसरण करेंगें .हमें इस बात पर गौर करना है कि ब्लाग की खबरें जब अखबार की सुर्खियाँ बनेगी तब समाज में ब्लाग के बारे में अच्छी धारणा बने , लोग इसे बड़े चाव से पढ़े . हमें ब्लाग में प्रकाशित सामग्री (पोस्ट) की गुणवत्ता के बारे में परस्पर विचार विमर्श करना चाहिए.वरिष्ठ ब्लागरों का मार्गदर्शन आगे बढ़ने में मददगार होगा . फ़िलहाल मै अखबार का नाम प्रकट नहीं कर रहा हूँ . उसके लिए नए पोस्ट का इंतजार करें .वैसे छतीसगढ़ विशेष कर रायपुर के ब्लागरो को थोडा 
 माथापच्ची करने दीजिये . 00234

28 टिप्पणियाँ:

Unknown 4 सितंबर 2010 को 1:03 am  

ये तो वाकई खुश खबरी है ।

ब्लॉ.ललित शर्मा 4 सितंबर 2010 को 7:49 am  

ब्लॉग पर अच्छी पठनीय सामग्री आनी चाहिए
जिससे जनमानस में सही धारणा बने, सही कहा आपने।
खुशखबरी देने के लिए धन्यवाद

ब्लॉ.ललित शर्मा 4 सितंबर 2010 को 7:50 am  

पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है

दिनेशराय द्विवेदी 4 सितंबर 2010 को 7:55 am  

अच्छी खबर। सभी को बधाई!!!

राजभाषा हिंदी 4 सितंबर 2010 को 8:42 am  

बहुत अच्छी जानकारी।
हिन्दी, भाषा के रूप में एक सामाजिक संस्था है, संस्कृति के रूप में सामाजिक प्रतीक और साहित्य के रूप में एक जातीय परंपरा है।
हिन्दी, भाषा के रूप में एक सामाजिक संस्था है, संस्कृति के रूप में सामाजिक प्रतीक और साहित्य के रूप में एक जातीय परंपरा है।
स्‍वच्‍छंदतावाद और काव्‍य प्रयोजन , राजभाषा हिन्दी पर, पधारें

आपका अख्तर खान अकेला 4 सितंबर 2010 को 8:43 am  

ashok bhaayi yeh to achchi khbr he isse blogrs bhaaiyon ka bhi utsaah vrdhn hoga or unki smikshaa hone se voh niyntrit bhi rhenge. akhtar khan akela kota rajsthna

36solutions 4 सितंबर 2010 को 9:09 am  

शुभकामनांए.
जिस अखबार की आप बात कर रहे हैं उसके संपादक महोदय भी सालों से बेआवाज हिन्‍दी ब्‍लॉगों की नब्‍ज और सह संपादक महोदय तो पाठक के साथ ही लगातार ब्‍लॉग पोस्‍टों का अपने अखबार एवं पत्रिका में प्रकाशित कर रहे हैं।

इसी अखबार नें पहली बार छत्‍तीसगढ़ में ब्‍लॉग धूम शीर्षक से मेरा एक आलेख छापा था तब छत्‍तीसगढ़ की प्रिंट मीडिया को ज्ञात ही नहीं था कि जय प्रकाश मानस जी के अतिरिक्‍त और लोग हैं जो छत्‍तीसगढ़ से हिन्‍दी ब्‍लॉगिंग कर रहे हैं।

यह अखबार इस कार्य को आरंभ करने वाला है इसके लिए हमारी अग्रिम शुभकामनांए, हम सभी को अपने तरफ से इस हेतु से जो सहयोग हो सकेगा करना चाहिए.

honesty project democracy 4 सितंबर 2010 को 9:42 am  

सार्थक और सराहनीय प्रयास...

girish pankaj 4 सितंबर 2010 को 11:36 am  

khooba mehanat kar rahe ho bajaj ji. rang laegee ye mehanat ek din..

संगीता स्वरुप ( गीत ) 4 सितंबर 2010 को 11:44 am  

अच्छी खबर है ...ब्लॉग जगत में भी कुछ सार्थकता आये ..

Sanjeet Tripathi 4 सितंबर 2010 को 12:19 pm  

अच्छी खबर, बधाई!

पंकज कुमार झा. 4 सितंबर 2010 को 12:45 pm  

अच्छी खबर ब्रेक की आपने तो....बधाई.

दीपक बाबा 4 सितंबर 2010 को 1:26 pm  

ब्लोगारा दी हो गई बल्ले बल्ले

समयचक्र 4 सितंबर 2010 को 5:55 pm  

बढ़िया खबर दी है ... बधाई के पात्र हैं

Kavita Rawat 4 सितंबर 2010 को 7:01 pm  

blog post tak aam logo pahunchen isse achhi kya khabar hogi...abkhir blog mein aam jan se prerit aur poshit lekhon ka kahin to sadupyog ho sagega...
...khushkhabri ke liye aapko bahut badhai

Nirantar 4 सितंबर 2010 को 7:21 pm  

सब खुश खबरी का इन्तजार करतें हैं
अच्छी खबर का निरंतर स्वागत करते हैं

ओशो रजनीश 4 सितंबर 2010 को 7:51 pm  

अच्छी खबर है . बधाई

अविनाश वाचस्पति 4 सितंबर 2010 को 8:57 pm  

मतलब अब बासी खबरें भी पढ़नी होंगी। हम तो ताजी ही पढ़ लेते हैं यहां पर। हमारा अखबार और इसकी सुर्खियां तो यही हैं। यह तो प्रिंट मीडिया के पाठकों के लिए इंतजाम किए जा रहे हैं। वैसे इसमें अच्‍छी खबर यह है कि इन खबरों के प्रकाशन पर ब्‍लॉगस्‍वामियों को पारिश्रमिक भी मिलेगा, अब वो पारिश्रमिक क्‍या होगा, इसे जानने के लिए इंतजार कीजिए, उस अखबार के, उस पेज का, जिस पर ब्‍लॉग जगत की खबरें प्रकाशित होंगी।

Shah Nawaz 4 सितंबर 2010 को 8:59 pm  

यह तो वाकई खुशखबरी की बात है....जानकारी के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद!

मेरी ग़ज़ल:
मुझको कैसा दिन दिखाया ज़िन्दगी ने

टिप्पणी पोस्ट करें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP