Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

चाँद का दीदार

>> 10 सितंबर, 2010

ईद मुबारक

ज ईद है,चाँद नहीं दिखा इसलिए ईद का पर्व 11  सितम्बर को मनाने का ऐलान किया गया है,  ईद के अवसर पर गूगल से चाँद की बहुत ही प्यारी एवं मनमोहक तस्वीर प्राप्त हुई है,आइये इस तस्वीर से चाँद का दीदार करें. आप सबको ईद मुबारक, बहुत बहुत बधाई.

जल  में सूर्य व चद्रमा दोनों का प्रतिबिम्ब दिखाई दे रहा  है ,छायाकार के सोंच और परिश्रम की दाद देनी होगी .   

12 टिप्पणियाँ:

ब्लॉ.ललित शर्मा 10 सितंबर 2010 को 9:02 am  

बहुत सुंदर नयनाभिराम चित्र है।

ईद मुबारक एडवांस में।

शुभकामनाएं अशेष।

Rahul Singh 10 सितंबर 2010 को 9:22 am  

दुर्लभ दृश्‍य, सुंदर चित्र. बधाई.

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') 10 सितंबर 2010 को 11:55 am  

ख़ूबसूरत चित्र है भईया.आपको भी ईद मुबारक.
"ईद मुबारक" http://smhabib1408.blogspot.com/

बेनामी,  10 सितंबर 2010 को 2:18 pm  

behtreen photo

गजेन्द्र सिंह 10 सितंबर 2010 को 4:04 pm  

ख़ूबसूरत चित्र
बहुत बढ़िया है ..

एक बार इसे जरू पढ़े -
( बाढ़ में याद आये गणेश, अल्लाह और ईशु ....)
http://thodamuskurakardekho.blogspot.com/2010/09/blog-post_10.html

ashokbajajcg.com 10 सितंबर 2010 को 7:01 pm  

श्री एस.एम.हबीब जी ;

"एहसासात... अनकहे लफ्ज़." अच्छा लगा .

ईद मुबारक !

JanMit 10 सितंबर 2010 को 7:20 pm  

अशोक जी,
कहाँ कहाँ से ढूँढ कर लाते है,
आप ऐसे सुन्दर, मनमोहक चित्र !

ईद की बहुत बहुत बधाई .......

ashokbajajcg.com 10 सितंबर 2010 को 7:58 pm  

जनमीत जी,

जिन ढूँढा तिन पाइयॉं, गहरे पानी पैठ।
मैं बौरी ढूँढ़न गई, रही किनारे बैठ।।

ईद मुबारक .

विवेक सिंह 10 सितंबर 2010 को 8:01 pm  

बहुत बढ़िया ।

चाँद को भी ईद मुबारक !

Shah Nawaz 11 सितंबर 2010 को 7:11 am  

ईद की दिली मुबारकबाद कुबूल फरमाएं!

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP