Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

एक खुशखबरी ब्लागरों के लिए

>> 18 सितंबर, 2010

शिल्पकारों की बेहतरी के लिए उन्हें 'लोकल' से 'ग्लोबल' बाजार दिलाना जरूरी :                                  -------------------डॉ. रमन सिंह





मुख्यमंत्री ने किया वेबसाईट 'ललित कला डॉट इन' का लोकार्पण



विश्वकर्मा जयंती पर हुई एक नई शुरूआत



मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के परम्परागत ग्रामीण शिल्पकारों की आर्थिक बेहतरी के लिए यह जरूरी है कि उन्हें राज्य, देश और दुनिया के खुले बाजार में अच्छा व्यवसाय दिलाया जाए। डॉ. सिंह ने कहा कि हम सब को मिल कर यह प्रयास करना होगा कि हमारे इन शिल्पकारों के बाजार का दायरा 'लोकल' से आगे बढ़ कर 'ग्लोबल' हो जाए। इसमें सूचना प्रौद्योगिकी के आधुनिक औजार के रूप में वेबसाईट जैसे संचार माध्यम की बहुत बड़ी भूमिका हो सकती है। इसके लिए सरकारी प्रयासों के साथ-साथ निजी क्षेत्र की जनभागीदारी भी बहुत जरूरी है।

मुख्यमंत्री ने श्रम और शिल्प के देवता भगवान विश्वकर्मा की जयंती 'छत्तीसगढ़ श्रम दिवस' के अवसर पर आज सवेरे यहां अपने निवास पर रायपुर जिले के अभनपुर निवासी श्री ललित शर्मा की वेबसाईट 'ललित कला डॉट इन' (lalitkala.in) का लोकार्पण करते हुए इस आशय के विचार व्यक्त किए। श्री शर्मा द्वारा यह वेबसाईट शिल्पकारों के लिए समग्र कला मंच के रूप में तैयार की गयी है। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ सहित देश भर का हमारा परम्परागत हस्तशिल्प काफी समृध्द है और दुनिया भर में मशहूर है, लेकिन जरूरत इस बात की है कि हस्तशिल्प को रोजी-रोटी का जरिया बनाकर जीवन यापन कर रहे हमारे लाखों कारीगरों को अपनी कलाकृतियों के लिए अच्छा बाजार और अच्छा व्यवसाय मिले। छत्तीसगढ़ के संदर्भ में डॉ. रमन सिंह ने कहा कि हमारे यहां के शिल्पकार बेलमेटल, टेराकोटा, लौहशिल्प, बांस शिल्प और अन्य अनेक विधाओं में सिध्दहस्त हैं। उन्हें कारीगरी का यह कौशल अपने पूर्वजों से विरासत में मिला है, जिसे वे आज भी पीढ़ी-दर-पीढ़ी आगे बढ़ाते जा रहे हैं, लेकिन आर्थिक बेहतरी के लिए उन्हें और भी ज्यादा पहचान और व्यापक बाजार मिलना बहुत जरूरी हो गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह खुशी की बात है कि इस दिशा में निजी तौर पर श्री ललित शर्मा ने ध्यान केन्द्रित किया है और अभनपुर जैसे छोटे कस्बे में उन्होंने स्वप्रेरणा से रूचि लेकर आधुनिक सूचना तकनीक का इस्तेमाल करते हुए हस्तशिल्पियों के लिए वेबसाईट तैयार की है,जिसे उन्होंने शिल्पकला, काष्ठकला, चित्रकला, मूर्तिकला, नाटयकला, स्थापत्यकला, आर्ट गैलरी, साहित्यकला जैसे अलग-अलग प्रभागो से सुसज्जित किया है। श्रम, सृजन और शिल्प के देवता भगवान विश्वकर्मा की जयंती पर श्री ललित शर्मा ने एक नये सृजन के रूप में इसे प्रस्तुत किया है। डॉ.रमन सिंह ने उम्मीद जतायी कि इस महत्वपूर्ण वेबसाईट के माध्यम से न सिर्फ छत्तीसगढ़,बल्कि देश के सभी राज्यों के शिल्पकारों को अपनी कलाकृतियों के प्रदर्शन के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय मंच मिलेगा और हमारे शिल्पकार 'लोकल' से 'ग्लोबल' होकर बेहतर कारोबार और मुनाफे के साथ स्वयं का और अपने राज्य और देश का भी नाम रौशन करेंगे। उन्हें अच्छा व्यवसाय मिलेगा तो उनकी आर्थिक स्थिति भी बेहतर होगी। डॉ. रमन सिंह ने श्री ललित शर्मा से वेबसाईट के उद्देश्यों की जानकारी मिलने पर यह भी उम्मीद जतायी कि यह वेबसाईट छत्तीसगढ़ और भारत के परम्परागत शिल्पकारों के परिचय कोष के रूप में भी लोकप्रिय होगा।



मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार भी स्वयं इस दिशा में हर संभव प्रयास कर रही है। प्रदेश सरकार के छत्तीसगढ़ हस्तशिल्प विकास बोर्ड ने भी हाल ही में अपना एक वेबसाईट शुरू किया है। डॉ.रमन सिंह ने कहा कि शिल्पकारों को बढ़ावा देने के लिए सरकारी प्रयासों में इस प्रकार की जनभागीदारी बहुत जरूरी है। उन्होंने इस दिशा में निजी तौर पर वेबसाईट शुरू करने पर श्री ललित शर्मा को बधाई और शुभकामनाएं दी। जल संसाधन मंत्री श्री हेमचंद यादव, छत्तीसगढ़ पाठयपुस्तक निगम के अध्यक्ष श्री अशोक शर्मा और छत्तीसगढ़ राज्य सहकारी बैंक के संचालक तथा पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्री अशोक बजाज भी इस अवसर पर उपस्थित थे। अपनी वेबसाईट के बारे में श्री ललित शर्मा ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्होंने छत्तीसगढ़ और देश भर के शिल्पकारों की कला-प्रतिभा से दुनिया को परिचित कराने के लिए इस वेबसाईट का निर्माण किया है, ताकि उनके हाथों के हुनर की ओर दुनिया का ध्यान आकर्षित हो और इसके जरिए उन्हें स्थानीय से लेकर देश-विदेश में अच्छा कारोबार मिल सके। उन्होंने वेबसाईट लोकार्पण के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।
 भाई ललित शर्मा का नाम ब्लाग जगत में नया नहीं है ,
वे बड़े ही सक्रीय ब्लागर है ;उन्होंने आज एक नई छलांग
 लगाई है.आप सभी ब्लागर मित्रों की ओर से उन्हें बहुत 
बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं .   

18 टिप्पणियाँ:

ओशो रजनीश 18 सितंबर 2010 को 12:35 am  

बढ़िया जानकारी, ....

बढ़िया ....ललित जी का नाम ब्लॉग गजट में कौन नहीं जनता, ललित जो को बधाई एवं शुभकामनाएं ......

इसे भी पढ़े :-
(आप क्या चाहते है - गोल्ड मेडल या ज्ञान ? )
http://oshotheone.blogspot.com/2010/09/blog-post_16.html

'अदा' 18 सितंबर 2010 को 1:54 am  

ललित जी बहुत बहुत बधाई...आपको..!!

महेन्द्र मिश्र 18 सितंबर 2010 को 5:12 am  

ललित जो को बधाई एवं शुभकामनाएं ...

Rahul Singh 18 सितंबर 2010 को 7:01 am  

बधाई. यह कला और कलाकारों का मार्ग प्रशस्‍त करे यही कातना है.

ललित शर्मा 18 सितंबर 2010 को 7:26 am  

भाई साहब आपको एवं समस्त ब्लोगर मित्रों को धन्यवाद
एवं विश्वकर्मा पूजा की शुभकामनायें.

ललित शर्मा 18 सितंबर 2010 को 7:26 am  

भाई साहब आपको एवं समस्त ब्लोगर मित्रों को धन्यवाद
एवं विश्वकर्मा पूजा की शुभकामनायें.

मास्टर जी 18 सितंबर 2010 को 7:31 am  

भाई साहब,भगवन विश्वकर्मा जी की पूजा के अवसर पर आपने शुभ समाचार सुनाया है. ललित जी को बधाई एवं
आपको धन्यवाद

पी.सी.गोदियाल 18 सितंबर 2010 को 10:22 am  

भाई ललित शर्मा का नाम ब्लाग जगत में नया नहीं है ,
वे बड़े ही सक्रीय ब्लागर है ;उन्होंने आज एक नई छलांग
लगाई है.आप सभी ब्लागर मित्रों की ओर से उन्हें बहुत
बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !!

सुज्ञ 18 सितंबर 2010 को 10:59 am  

बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !!

ali 18 सितंबर 2010 को 11:04 am  

हमारी भी शुभकामनायें

sada 18 सितंबर 2010 को 12:13 pm  

बहुत-बहुत बधाई एवं शुभकामनायें ।

महफूज़ अली 18 सितंबर 2010 को 6:10 pm  

ललित जो को बधाई एवं शुभकामनाएं

Ratan Singh Shekhawat 18 सितंबर 2010 को 6:24 pm  

बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं

Shah Nawaz 18 सितंबर 2010 को 10:33 pm  

ललित जी को लाखों बधाइयाँ, ढेरों शुभकामनाएं!


व्यंग्य: युवराज और विपक्ष का नाटक

Asha 19 सितंबर 2010 को 10:12 am  

बधाई और शुभ कामनायें
आशा

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP