Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

9 का अंक

>> 11 अक्तूबर, 2010

 नव-रात्रि का पर्व पूरे देश में धूमधाम से मनाया जा रहा है .आप भी कहीं ना कहीं देवी माँ की उपासना में व्यस्त होंगें . वैसे तो हमारा देश पर्वो का देश है ,रोज कोई ना कोई त्यौहार होता ही है,भले ही वह देश के अलग अलग हिस्से में ही क्यों ना हो . सभी त्यौहार साल में एक बार आते है लेकिन नव-रात्रि का पर्व दो बार आता है ,वो भी नौ-नौ दिनों के लिए . यानी साल में अट्ठारह दिन देवी के नाम . इन अट्ठारह दिनों का मूलांक निकालें तो नौ ही होता है ....... 1 + 8 = 9

9 का अंक बड़ा विचित्र है इसे चाहे जितनी बार गुना करो उसका मूलांक 9  ही आयेगा .


                     जैसे ---
9 ×    1      =        9                                         =  9
9 ×    2      =     18    =  1  +  8                        =  9
9 ×  13      =    117   =  1 +  1 + 7                    = 9 
9  × 112     =   1008 =  1  +  0 + 0 + 8              = 9
9  × 4226   =  38034 =  3 + 8 +0 + 3 + 4           = 9 


00426

1 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा 11 अक्तूबर 2010 को 6:40 am  

वाह बहुत बढिया गणित का जोड़ है।

आभार

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP