Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

राष्ट्र-हित में एक खुशखबरी

>> 03 अक्तूबर, 2010


 मुस्लिम यूथ ऑर्गनाइजेशन लखनऊ  ने राममंदिर के निर्माण के लिए 15 लाख रुपये की मदद देने की पेशकश कर  सांप्रदायिक सौहार्द की अदभुत   मिसाल पेश की  है.इतना ही नहीं उसने अयोध्या विवाद पर आए इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने का भी विरोध किया है.शिया हुसैनी टाइगर्स के चीफ शमील शम्सी ने शनिवार को पत्रकारों को बताया, 'हम औपचारिक तौर पर सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड से हाई कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील नहीं करने की गुजारिश करेंगे. हम उनसे लंबे अरसे से चले आ रहे इस विवाद को हमेशा-हमेशा के लिए खत्म करने की गुजारिश भी करेंगे.

गौरतलब है शम्सी नामी शिया धर्मगुरु और ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सीनियर वाइस प्रेजिडेंट रह चुके मौलाना कल्बे सादिक के करीबी रिश्तेदार हैं. मौलाना कल्बे सादिक के चचेरे भाई मौलाना कल्बे जव्वाद हुसैनी टाइगर्स के मुख्य संरक्षक हैं.

जामा मस्जिद के शाही इमाम मौलाना अहमद बुखारी और समाजवादी पार्टी के सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव द्वारा फैसले की आलोचना किए जाने को शम्सी ने बेहद दुर्भाग्यपूर्ण बताया. शम्सी ने मुस्लिम नेताओं को उनके उस बयान की याद दिलाई जिसमें उन्होंने कोर्ट के फैसले को स्वीकार करने की बात कही थी. शम्सी ने जोर देकर कहा, ' मुझे लगता है बोर्ड को इस विवाद को पूरी तरह खत्म करने के लिए पहल करनी चाहिए. '
 
मैंने कल के पोस्ट में लिखा है कि " देश की नई पीढी अमन पसंद है तथा वह देश की एकता को मजबूत करना चाहती  है . भारत की तरक्की एवं विकास से इर्षा रखने वाले पडोसी देश एवं अन्य विदेशी ताकतों को आज के शांतिपूर्ण माहौल से निराश होना पड़ा है ,ये चाहते है कि भारत में सदैव अराजकता का माहौल बना रहे तथा भारत कमजोर हो जाये .NBT  00525

14 टिप्पणियाँ:

tulsibhai 3 अक्तूबर 2010 को 1:40 am  

" behatarin post ..jankari bhari post padhker aanand aaya khasker is post dwara diyegaye aapke SANDESH ko padhker "

----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

'उदय' 3 अक्तूबर 2010 को 6:09 am  

... मुस्लिम यूथ ऑर्गनाइजेशन लखनऊ
kaa yah kadam behad prasanshaneey va anukaraneey hai ... shaandaar post !!!

Rahul Singh 3 अक्तूबर 2010 को 6:54 am  

हिंसा खबर बन जाती है, लेकिन सौहार्द्र अचर्चित रहता है. आपने चर्चा में लाया, बधाई.

शिक्षामित्र 3 अक्तूबर 2010 को 8:37 am  

दोनों पक्ष सहयोग का हाथ बढाएं,तो न सिर्फ मंदिर-मस्जिद दोनों बन सकेंगे,सबसे बड़ी उपलब्धि यह होगी कि राजनेता ठगे-से रह जाएंगे।

प्रवीण पाण्डेय 3 अक्तूबर 2010 को 9:32 am  

स्तुत्य प्रयास, हार्दिक आभार।

अल्पना 3 अक्तूबर 2010 को 7:03 pm  

बहुत अच्छी प्रस्तुति।

Babli 3 अक्तूबर 2010 को 7:18 pm  

बहुत बढ़िया लगा! उम्दा प्रस्तुती!

Rajeev Bharol 4 अक्तूबर 2010 को 4:25 am  

मुस्लिम यूथ ओर्गेनाइज़ेशन का बहुत ही सराहनीय कदम है.

ankit the fame 4 अक्तूबर 2010 को 2:37 pm  

जानकर अच्छा लगा। बहुत अच्छी शुरुआत है

राजेश उत्‍साही 4 अक्तूबर 2010 को 6:28 pm  

हर समझदार भारतीय अब अमन चाहता है। उसे यह बात समझ आ गई है कि खून खराबे से कुछ मिलने वाला नहीं। जिन्‍हें अब तक यह बात समझ न आई हो उन्‍हें जल्‍दी सदृबुद्धि आ जाए तो बेहतर है।

घनश्याम दास 5 अक्तूबर 2010 को 1:50 am  

सुन्दर प्रस्तुति । आभार स्वीकार करें ।

देवेन्द्र पाण्डेय 6 अक्तूबर 2010 को 9:41 pm  

यकीनन यह मुल्क को जोड़ने की शानदार कोशिश है।
..जानकारी देने के लिए आभार।

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP