Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

भारत का डंका

>> 11 अक्तूबर, 2010

कॉमनवेल्थ खेलों में हॉकी के एक लीग मैच में भारत ने  पाकिस्तान पर धमाकेदार जीत दर्ज की है. भारत ने पाकिस्तान को 4 के मुकाबले सात गोल से हराया. इस जीत के साथ ही भारत सेमीफाइनल में पहुंच गया है.

 दिल्ली का मेजर ध्यानचंद स्टेडियम आज  एक ऐसे मैच का  गवाह बना , जिसमें लगा जैसा पूरा भारत उमड़ आया हो.मैच अहम हो और सामने चिर प्रतिद्वंदी  पाकिस्तान की टीम हो, तो समां कैसा होगा. इसका अंदाज़ा लगाया  जा  सकता  है. भारत  की  इस ऐतिहासिक  जीत पर सभी खिलाडियों एवं  आप सबको बहुत बहुत बधाई .  

जीत की उमंग

9 टिप्पणियाँ:

काजल कुमार Kajal Kumar 11 अक्तूबर 2010 को 4:41 am  

लेकिन खाने के मामले में 4 गोल भी कम नहीं होते. सोचना होगा अपने रक्षण के बारे में. पाकिस्तान इस समय कोई बहुत मज़बूत टीम नहीं है तो भी भारत पर 4 गोल कर सकती है तो मज़बूत टीमों के आगे ?

ललित शर्मा 11 अक्तूबर 2010 को 7:03 am  

काजल कुमार जी की चिंता सही है
पाकिस्तान पर 4 गोल से विजय पाने के लिए भारतीय टीम को बधाई।
यह विजय यात्रा आगे भी जारी रहे।
नवरात्री पर्व की बधाई एवं शुभकामनाएं

Udan Tashtari 11 अक्तूबर 2010 को 7:16 am  

अच्छे अच्छे कू उम्मीद की जाये बस!!!

Swarajya karun 11 अक्तूबर 2010 को 8:58 am  

सुंदर प्रस्तुति. कृपया एक नज़र इधर भी -
देश-धर्म का नाता है.
swaraj-karun.blogspot.com

KK Yadava 11 अक्तूबर 2010 को 11:09 am  

सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा...विजय यात्रा आगे भी जारी रहे।

____________________
'शब्द-सृजन..." पर आज लोकनायक जे.पी.

मनोज कुमार 11 अक्तूबर 2010 को 2:10 pm  

शायद् हॉकी के पुरानी दिन इसी के साथ् लौटे! बहुत अच्छी प्रस्तुति।
या देवी सर्वभूतेषु चेतनेत्यभिधीयते।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।
नवरात्र के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार के सभी सदस्यों को हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई!

दुर्नामी लहरें, को याद करते हैं वर्ल्ड डिजास्टर रिडक्शन डे पर , मनोज कुमार, “मनोज” पर!

राज भाटिय़ा 11 अक्तूबर 2010 को 7:57 pm  

हमारी तरफ़ से इस टीम को ओर सभी भारत वासियो को बधाई जी, धन्यवाद

shikha varshney 11 अक्तूबर 2010 को 10:29 pm  

बस अब इन्हीं के सहारे राष्ट्रमंडल खेलों पर हुआ नुक्सान का बोझ थोडा कम होगा.

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP