Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

भारत के लिए सिरदर्द हैं चीन और पाक

>> 15 अक्तूबर, 2010


भारतीय सेना की नई भूमिका और उद्देश्य विषय पर सेमीनार

भारत की सुरक्षा के लिए पाकिस्तान और चीन सबसे बड़े सिरदर्द बन गए हैं. यह मानना है भारतीय सेना प्रमुख जनरल वीके सिंह का. उन्होंने अपनी इस सोच के पीछे कई वजहें भी बताई है.

जनरल सिंह का मानना है कि इन दोनों पड़ोसी मुल्कों से लगातार बढ़ रही सिरदर्दी की वजह से भारतीय सेनाओं को मौजूदा परमाणु युग में पारंपरिक युद्ध की सभी क्षमताओं से लैस होना चाहिए. नई दिल्ली में भारतीय सेना की नई भूमिका और उद्देश्य विषय पर आयोजित सेमिनार में जनरल सिंह ने यह बात कही.

    उन्होंने दलील दी कि पाकिस्तान लचर सरकारी तंत्र और दयनीय आंतरिक स्थिति के बीच आतंकवादी संगठनों की सुरक्षित पनाहगाह बन गया है. इन सब बातों का सीधा असर भारत पर पड़ता है और उसके लिए ये हालात चिंता का सबब बनते हैं. इसके अलावा चीन से भारत को आर्थिक और सामरिक दोनों मोर्चों पर लगातार खतरा बढ़ रहा है. उन्होंने कहा "सीमा विवाद होने के बावजूद हमारी सीमाओं पर स्थायित्व तो है लेकिन साझा सीमाओं वाले देशों की मंशा में खोट को देखते हुए हमें सैन्य क्षमताओं में इजाफा करना चाहिए."सेना प्रमुख ने कहा इस तरह के हालात सेना के मकसद और भूमिका नए सिरे से तय करने पर मजबूर करते हैं. हालांकि उन्होंने चीन के साथ युद्ध की सीधी आशंका को तो नकार दिया लेकिन इसके खतरे से इंकार नहीं किया. उन्होंने कहा "चीन के साथ हमारी सीमाओं पर स्थायित्व तो है लेकिन हम ढिलाई बरतने का खतरा मोल नहीं ले सकते."जनरल सिंह ने इस बात पर जोर दिया कि भारतीय सेनाओं को पारंपरिक युद्ध की स्थिति में परमाणु खतरे से निपटने की काबलियत में निखार लाने की जरूरत है. उन्होंने स्पष्ट किया कि भारत को अपनी सीमाओं के विस्तार की कोई महत्वाकांक्षा नहीं है फिर भी सीमाओं पर चीन की बढ़ती सैन्य गतिविधियों पर बारीक नजर रखने की जरूरत है.dw 00389


7 टिप्पणियाँ:

राज भाटिय़ा 16 अक्तूबर 2010 को 12:01 am  

जिस ऒरत का खसम कठोर हो उस की ऒरत की तरफ़ कोई आंख ऊठा कर कोई नही देख सकता, वो ही देश के बारे भी जिस देश का राजा सख्त होगा, ताकतवार होगा उस देश की तरह कोई नजर ऊठा कर कोई नही देख सकता, हमारी फ़ोज तगडी हे, लेकिन नेता ओर सरकार...

Udan Tashtari 16 अक्तूबर 2010 को 1:16 am  

बेहतरीन पोस्ट .आभार ! महाष्टमी की बधाई .

ललित शर्मा 16 अक्तूबर 2010 को 6:31 am  

शस्त्र रक्षिते राष्ट्रे शास्त्र चर्चा प्रवर्तते।

जिस राष्ट्र का रक्षा तंत्र सुदृढ हो, वह चतुर्दिक उन्नति करता है।
चीन और पाकिस्तान पड़ोसी के नाम पर बहुत बड़े नासूर हैं, इनकी शल्यक्रिया आवश्यक है। साधारण भाषा में कहुं तो गूमड़ा फ़ोड़ना ही पड़ेगा।

दुर्गा नवमी की शुभकामनाएं।

खबरों की दुनियाँ 16 अक्तूबर 2010 को 6:31 pm  

अच्छी पोस्ट ,विजय दशमी की शुभकामनाएं । पढ़िए "खबरों की दुनियाँ"

अशोक बजाज 16 अक्तूबर 2010 को 7:57 pm  

आप सबको भी दशहरा पर्व की बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं .

अशोक बजाज 16 अक्तूबर 2010 को 7:59 pm  

@ खबरों की दुनियाँ
हम रोज" खबरों की दुनियाँ" में रहतें है ,अशोक बजाज

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP