Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

अनाड़ी ब्लॉगर का शतकीय पोस्ट

>> 21 अक्तूबर, 2010

ASHOK BAJAJ 
यह ग्राम चौपाल का शतकीय आलेख है, इस शतक को बनाने में हमें 150 दिन लगे. इस अवधि में 100 पोस्ट, 150 दिन, 37 समर्थक, 741 टिप्पणियां प्राप्त हुई. वैसे तो ब्लॉग हमारा बहुत दिनों से तैयार था लेकिन पहली पोस्ट हमने 22 मई 2010 को लगायी. जल सवर्धन पर एक लेख लिखा था जो अनेक अखबारों में छपा है उसे मैंने अपने ब्लॉग में लगा दिया था, उस पर ई गुरु राजीव का पहला कमेन्ट आया, दूसरा भी उन्हीं का था. उसके बाद पंकज  झा, जयराम “विप्लव”, ललित शर्मा, अजय कुमार और आशुतोष मिश्रा की टिप्पणी प्राप्त हुई . तब हमें टिप्पणियों के बारे में कुछ पता नहीं था. हमने 25  मई को एक पोस्ट लगा कर इन्हें धन्यवाद दिया.                                

जून 2010 में हमने 4 पोस्ट लगाये इस बीच पं.ललित शर्मा से मुलाकात हुई उन्होंने ब्लोगिंग के लिए प्रोत्साहित किया, तत्पश्चात हम जुलाई में सक्रिय हुए, जुलाई 2010 में - 21 पोस्ट , अगस्त 2010 में - 33 पोस्ट, सितम्बर 2010 में - 22 पोस्ट तथा अक्तूबर में अभी तक 17 पोस्ट लगायें हैं. सितम्बर में अधिकांश समय बाहर रहना पड़ा इसीलिए पोस्ट कम आये, वरना मेरा प्रयास रहता है कि हर रोज एक पोस्ट जरूर लगे. हमने पर्यावरण पर सर्वाधिक लेख लिखे है. इसके अलावा देश विदेश के ताजा घटनाक्रमों को स्थान दिया .धर्म, योग, राजनीति, संचार के अलावा स्वामी विवेकानंद, मुंशी प्रेमचंद, पं. दीनदयाल उपाध्याय, राजर्षि पुरूषोत्तमदास टंडन, पं. श्रीराम शर्मा, संत कबीर एवं महात्मा गांधी के प्रेरणा दायी विचारों को समाहित करने का प्रयास किया है. दो-चार छत्तीसगढ़ी एवं हिन्दी गीतों की पुष्प भी ब्लॉग में चढाई. नशाखोरी, महंगाई जैसे ज्वलंत मुद्दों पर भी आपका ध्यान आकृष्ट किया इसके अलावा देश के मान-सम्मान से जुड़ी कुछ खबरों को भी आप तक पहुचानें का प्रयास करता रहा हूँ. पहले ashokbajaj99.blogspot.com था एक दिन ललित ने डोमेन कर http://www.ashokbajaj.com/ कर दिया तब से चिट्ठाजगत में सक्रियता में हमारी सीनियारिटी मारी गई. पहले हम सक्रियता क्रमांक 192 तक पहुँच चुके थे लेकिन अब हमारी सक्रियता क्रंमाक - 381 है.

ब्लोगिंग अपने विचारों एवं भावनाओं को प्रगट करने का सस्ता एवं सर्वोत्तम माध्यम है, हमने 150 दिनों में इसका खूब उपयोग किया. इसके माध्यम से देश -विदेश के अनेक नए मित्रों से परिचय भी हुआ,  ब्लोगिंग की दुनिया के अनेक सितारों के बारे में जानकारी मिली. ग्राम चौपाल को अधिकाधिक लोगों ने पसंद किया. ब्लॉग जगत के बाहर भी इसकी गूंज सुनाई पड़ी.

इसके चक्कर में मेरी दिनचर्या पर प्रतिकूल असर भी पड़ा है. दिन भर की व्यस्तता के बाद पोस्ट लिखने के लिए देर रात तक जागने की बुरी आदत जो पड़ने लगी है. सुबह 7 बजे के बजाय 9 बजे उठना पड़ता है. सुबह के अनेक काम प्रभावित होने लगे है. इस सबके बावजूद मैं आपके साथ मजबूती से खड़ा हूँ. आपका स्नेह भरा कमेन्ट मुझे ब्लोगिग मुझे ब्लॉगिंग के क्रीज पर जमे रहने के लिए प्रेरित करता है.

आभार ! धन्यवाद !! वंदेमातरम !!! 

आपका - अशोक बजाज रायपुर छत्तीसगढ़, (ashok bajaj raipur )

45 टिप्पणियाँ:

ब्लॉ.ललित शर्मा 21 अक्तूबर 2010 को 3:21 am  

भाई साहब 100 वीं पोस्ट पर बधाई
बस लगाते जाईए चौके-छक्के,शतक अपने-आप बनते जाएंगे।

ब्लॉ.ललित शर्मा 21 अक्तूबर 2010 को 3:22 am  

और आप अनाड़ी ब्लॉगर कैसे हो गए?
अनाड़ी तो पहली बॉल में ही बोल्ड हो जाते हैं।:)

ब्लॉ.ललित शर्मा 21 अक्तूबर 2010 को 3:24 am  

स्वास्थ्य का ध्यान रखते हुए ब्लॉगिंग जारी रहे।
हैप्पी ब्लॉगिंग, हेल्दी ब्लॉगिंग

Unknown 21 अक्तूबर 2010 को 3:29 am  

ਤੁਹਾਨੂ ਲਖ ਲਖ ਵਧਾਇਯਾਂ ਜੀ, ਜਿੰਨੀ ਮਰਜੀ ਚਾਹੇ ਓਨ੍ਨੇ ਸੈਕੜੇ ਲਾਓ ਤੁਸ੍ਸੀ.

Unknown 21 अक्तूबर 2010 को 3:30 am  

ਵੰਡੇ ਮਾਤਰਮ ਵੰਡੇ ਮਾਤਰਮ ਵੰਡੇ ਮਾਤਰਮ

ashokbajajcg.com 21 अक्तूबर 2010 को 8:02 am  

@ ललित शर्मा जी ,
@वन्दे मातरम जी ,

धन्यवाद ! ਧਨ੍ਯਵਾਦ ! THANKS !

36solutions 21 अक्तूबर 2010 को 8:20 am  

शतकीय पोस्‍ट के लिये बहुत बहुत बधाई भईया. आप इसी तरह लिखते रहें, कई पाठक ऐसे भी होते हैं जो पोस्‍ट तो पढ़ते हैं पर अपनी हाजिरी नहीं लगाते।
चिट्ठाजगत सक्रियता के संबंध में मेरा मानना है कि यह महज एक जुगाडू प्रदर्शन है यह किसी ब्‍लॉग के योग्‍य/पठनीय होने का पैमाना नहीं है, इस पर मैंनें कुछ प्रयोग भी किए हैं आप स्‍वयं दो-चार ब्‍लॉग बना लीजिये उसे ब्‍लॉगजगत में पंजीकृत करा लीजिये और इन ब्‍लॉगों में अपने पोस्‍टों का लिंक नित्‍यकर्म की भांति डालते जाइये और सक्रियता बढ़ाते जाइये।
... किन्‍तु जो तकनीकि जानकार हैं वे इसका दबे स्‍वर से विरोध करते हैं सामने भले आपकी तारीफ करेंगें किन्‍तु सफलता के शार्टकट जुगाड पर लोग हंसते हैं।

आप जनता से सीधे जुड़े जनप्रतिनिधि हैं आपके लिये इस प्रकार के जुगाडू शार्टकट के कोई माने नहीं है। आप अपने व्‍यस्‍ततम समय में से हमारे लिये इतना समय निकाल पा रहे हैं यह बहुत बड़ी बात है, इसी बहाने आपसे और पाठकों से एक अदृश्‍य वैचारिक संबंध स्‍थापित होते जा रहा यह अच्‍छी बात है।
क्षमा सहित।

राम त्यागी 21 अक्तूबर 2010 को 8:26 am  

Congratulations ! keep on writting ...nice to see a politician here expressing his views to public ...india aaye to mulakat karenge :)

ashokbajajcg.com 21 अक्तूबर 2010 को 8:34 am  

@ भाई संजीव जी ,
आपने बिलकुल ठीक सुझाव दिया है ; आभारी हूँ .

ashokbajajcg.com 21 अक्तूबर 2010 को 8:44 am  

@ श्री राम त्यागी जी ,
ग्राम चौपाल में पधारने के लिए धन्यवाद !
भारत में आपका स्वागत है .

Udan Tashtari 21 अक्तूबर 2010 को 8:52 am  

100 वीं पोस्ट पर बधाई

अनेक शुभकामनाएँ..

Rahul Singh 21 अक्तूबर 2010 को 9:29 am  

बधाई, इसी तरह कायम रहें.

S.M.Masoom 21 अक्तूबर 2010 को 9:41 am  

100 वीं पोस्ट पर बधाई.

Pt. D.K. Sharma "Vatsa" 21 अक्तूबर 2010 को 12:03 pm  

बधाई और अनेकानेक शुभकामनाऎँ!!!

प्रवीण पाण्डेय 21 अक्तूबर 2010 को 3:07 pm  

बहुत बधाई हो आपको, इस उपलब्धि पर।

Dr. Zakir Ali Rajnish 21 अक्तूबर 2010 को 5:14 pm  

शतक लगाने के बाद भी अनाडी? ये आपका बडप्पन है और कुछ नहीं।

EJAZ AHMAD IDREESI 21 अक्तूबर 2010 को 5:26 pm  

बधाई हो आपको, इस उपलब्धि पर

पी.सी.गोदियाल "परचेत" 21 अक्तूबर 2010 को 6:57 pm  

इसके लिए आपको बधाई और आगे हमारी शुभकामनाये !

समयचक्र 21 अक्तूबर 2010 को 7:07 pm  

शतकीय पारी सफलतापूर्वक पूर्ण करने पर बधाई शुभकामनाएं...

अनाम,  21 अक्तूबर 2010 को 10:55 pm  

बधाई जी बधाई

ashokbajajcg.com 21 अक्तूबर 2010 को 11:43 pm  

शतकीय पोस्ट में पधारने के लिए ह्रदय से आपका आभारी हूँ . हौसला अफजाई के लिए धन्यवाद !!!

शिक्षामित्र 22 अक्तूबर 2010 को 12:00 am  

अब तक की सफलता के लिए बधाई और आगे के लिए शुभकामनाएँ स्वीकार कीजिए।

कडुवासच 22 अक्तूबर 2010 को 12:12 am  

... shatak ki badhaai ... doosare shatak ke liye shubhakaamanaayen !!!

niftylover 22 अक्तूबर 2010 को 12:56 am  

बहुत बहुत बधाई.......शतकवीर बनने के लिए .अब आप अनाडी ब्लोगर नहीं रहे अशोक सर अब आप खिलाड़ी ब्लोगर की संज्ञा देनी होगी .

सादर

रंजन

रविंद्र "रवी" 22 अक्तूबर 2010 को 6:12 am  

बजाज साहब हमारी तरफ से भी आपको शतकवीर होने पर बधाई.

रविंद्र "रवी" 22 अक्तूबर 2010 को 6:15 am  

आपका ग्राम चौपाल हमे बहुत पसंद आया और इसीलिये हमने कुछ वक्त यहा गुजरने कि कोशीश की. लेकिन यहां इतना सुकून मिला की आगे जाने का मन हि नही कर रहा था.

babanpandey 22 अक्तूबर 2010 को 10:03 am  

आपसे बहुत आशा है ...मेरा ब्लॉग पर भी जाकर मार्ग दर्शन करते रहे ...

Unknown 22 अक्तूबर 2010 को 10:15 am  

बहुत-बहुत बधाई और हार्दिक शुभकामनाएं।

संगीता पुरी 22 अक्तूबर 2010 को 1:16 pm  

बहुत बधाई और शुभकामनाएं !!

Sanjeet Tripathi 22 अक्तूबर 2010 को 2:20 pm  

आप अनाड़ी नहीं खिलाड़ी हैं भाई साहब।
बधाई हो शतकीय पोस्ट की।
रही बात चिट्ठाजगत की सक्रियता क्रमांक की तो इन सब बातों पर ध्यान ही न दीजिए। ये सब महज एक छलावा है, जिस तरह राजनीति में आगे बढ़ने का सही शॉर्टकट नहीं होता वैसा ही यह एक सो कॉल्ड शार्टकट है जिस से हंसी ही उड़नी है और कुछ नहीं। लिखना और पाठकों तक पहुंचना और उनसे संवाद कायम रखना ही महत्वपूर्ण है।

आप अपनी व्यस्त दिनचर्या में से समय निकालकर लिखते रहें बस, यही कामना है। जहां तक बतौर एक पत्रकार मुझे जानकारी है, अगले कुछ महीनों बाद आप और भी ज्यादा व्यस्त हो जाएंगे।
शुभकामनाएं।

Rajeysha 22 अक्तूबर 2010 को 5:06 pm  

100वीं पोस्‍ट पर भी अपने को अनाड़ी कहकर अपनी वि‍नम्रता का आनन्‍द उठा रहे हैं आदरणीय। खैर 2 घंटे का नि‍यमि‍त समय देकर आप ब्‍लॉगजगत पर उपकार कर रहे हैं उसके लि‍ये आपको धन्‍यवाद तो कहना ही चाहि‍ये।

संजय भास्‍कर 22 अक्तूबर 2010 को 8:05 pm  

बहुत खूबसूरत ब्लॉग मिल गया, ढूँढने निकले थे। अब तो आते जाते रहेंगे।

Unknown 22 अक्तूबर 2010 को 8:10 pm  

बहुत बहुत बधाई हो श्रीमान...

Unknown 23 अक्तूबर 2010 को 2:58 pm  

१०० वीं पोस्ट की बधाई

Gyan Darpan 24 अक्तूबर 2010 को 3:25 pm  

100 वीं पोस्ट पर बधाई

JanMit 24 अक्तूबर 2010 को 9:04 pm  

अशोक जी,
"बधाई हो बधाई" ,
खिलाडी हो खिलाडी
फिर भी बन रहे हो अनाड़ी
अरे भाई .............
नौ सौ चूहे खाकर ******** हज को चली ,,,,,,,,
सुना था कभी .. और आज पढ़ा ..........
सौ सौ पोस्टो के बाद भी अनाड़ी के अनाड़ी ..
वाह भैया वाह
तै तो गजब के बन गए खिलाडी.................
........................................................
अगले शतक के लिए हमारी शुभकामना ..
कुछ ऐसा प्रबंधन करे की सुबह की सैर अवश्य करे
स्वस्थ्य का ध्यान रखने में लापरवाही ठीक नहीं ..

ashokbajajcg.com 24 अक्तूबर 2010 को 11:34 pm  

@Sanjeet Tripathi Jee


आप लोगों की भावनाओं को मद्देनजर रखते हुए अनाड़ी के स्थान पर अपरिपक्व शब्द का प्रयोग करते है .आखिर आप लोगों से तो मै अपरिपक्व ही हूँ .

ashokbajajcg.com 24 अक्तूबर 2010 को 11:39 pm  

@ JanMit jee
शुभकामनाओं के लिए आभार . कहीं और चूहे बचें हो तो बताइयेगा .

ashokbajajcg.com 25 अक्तूबर 2010 को 12:10 am  

@@@@@@@@@@@@@@@ श्री उड़न तश्तरी जी , श्री राहुल सिंह जी , श्री एस.एम.मासूम जी , श्री डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) जी , श्री आशुतोष मिश्र जी ( खबरों की दुनियाँ) , श्री पं.डी.के.शर्मा"वत्स" जी , श्री प्रवीण पाण्डेय जी , श्री ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ जी , श्री एजाज़ अहमद इदरीसी जी , श्री पी.सी.गोदियाल जी , श्री महेन्द्र मिश्र जी , श्री बी एस पाबला जी , श्री शिक्षामित्र जी , श्री 'उदय' जी , श्री निफ्टीलोंवर जी , श्री रविन्द्र रवि जी , श्री बबन पाण्डेय जी , श्री अमित तिवारी जी , सुश्री संगीता पुरी जी , श्री राजेय शा जी , श्री संजय भास्कर जी , श्री राहुल पंडित जी , श्री मयूर जी एवं श्री रतन सिंह शेखावत जी आप सब तो पहले से ही शतकवीर है . आभार .

harendra singh rawat 29 अक्तूबर 2010 को 6:10 pm  

Dear Ashok Bajaj,
Congratulation on completing of a blog century. Gog bless you. With regards.

Unknown 14 फ़रवरी 2011 को 7:47 pm  

बहुत बहुत बधाई!

टिप्पणी पोस्ट करें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP