Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

अब खुलेंगे ब्रह्मांड के दरवाजे

>> 25 अक्तूबर, 2010


            ब्रह्मांड में कहीं छिपी हुई एक अनजानी दुनिया, जिसका अभी तक पता नहीं है. ये अब तक साइंस फिक्शन लिखने वालों के काम की चीजें रही हैं. लेकिन वैज्ञानिकों को उम्मीद हैं कि अगले साल तक इस सिलसिले में ठोस धारणाएं पेश करेंगे.
यही है महाट्यूब
     परमाणु अनुसंधान के लिए यूरोपीय संगठन, फ्रांसीसी अक्षरों के मुताबिक इसे सैर्न कहा जाता है. फ्रांस और स्विट्जरलैंड की सीमा पर जूरा पहाड़ियों की घाटी में इसके केंद्र में सैकड़ों वैज्ञानिक काम कर रहे हैं. यहां 10 अरब डॉलर की लागत से एक प्रयोग शुरू किया गया था, जिसे लार्ज हैड्रॉन कोलाइडर या एलएचसी कहा जाता है. भौतिक शास्त्रियों की भाषा में यह न्यू फिजिक्स का प्रयोग है, जिसके आधार पर ब्रह्मांड के बारे में अब तक प्रचलित मान्यताएं पूरी तरह से बदलनी पड़ेंगी.
       आम बोलचाल की भाषा में इसे महाप्रयोग का नाम दिया गया है. सैर्न के वैज्ञानिकों का कहना है कि समानांतर दुनिया, पदार्थ के अज्ञात रूप, अतिरिक्त आयाम - ये अब साइंस फिक्शन के विषय नहीं रह जाएंगे, बल्कि फिजिक्स के ठोस सिद्धांत बनेंगे, जिन्हें एलएचसी और इस तरह के अन्य प्रयोगों के जरिये प्रमाणित किया जाएगा.
ब्रह्मांड की खोज
       अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ताओं के इस तथाकथित थ्योरी ग्रुप में इस बात पर विचार किया जा रहा है कि टेलिस्कोप की पहुंच के बाहर क्या क्या हो सकता है, जैसा कि सैर्न के इस महीने के बुलेटिन में कहा गया है. बुलेटिन के एक लेख में बताया गया है कि एलएचसी की भूमिगत प्रयोगशाला में लगातार बढ़ाई जा रही ऊर्जा के साथ कणों के बीच टकराव की स्थिति पैदा की जा रही है,  जैसा कि ब्रह्मांड में हुआ करता है.  इनके नतीजों को कंप्यूटर के जरिये परखा जाएगा.
        केंद्र के महानिदेशक रोल्फ हॉयर ने पिछले सप्ताहांत बताया कि जमीन के नीचे 27  किलोमीटर लंबी सुरंग में अक्टूबर के मध्य में प्रोटोन के कण 50 लाख प्रति सेकंड की दर से आपस में टकराए जा रहे हैं.  यह योजना से दो सप्ताह पहले संपन्न हुआ है. और अगले साल घर्षण की गति अब तक अज्ञात आयाम तक बढ़ाई जाएगी, और उनसे प्राप्त हो सकने वाली सूचनाएं वैज्ञानिकों की अब तक की सारी धारणाओं को बदल सकती हैं. सिर्फ़ प्रकाश की गति इस घर्षण की गति से अधिक है.  इनके जरिये उसका एक नमूना तैयार किया जाएगा, आज से लगभग 13.7 अरब वर्ष पहले बिग बैंग के बाद एक सेकंड के एक छोटे से हिस्से में जो कुछ हुआ था.
         सदियों के निरीक्षण और प्रयोग के बाद भी अभी तक ब्रह्मांड के लगभग 4 प्रतिशत के बारे में ही कुछ जानकारी मिल सकी है. उसके बाहर जो कुछ है, उसे डार्क मैटर या डार्क एनर्जी कहा जाता है, क्योंकि वह पूरी तरह से अज्ञात है.
          सैर्न के वैज्ञानिकों को उम्मीद है कि इन महाप्रयोगों के नतीजे के रूप में उन्हें ऐसे आयामों के संकेत मिलेंगे, जो लंबाई, चौड़ाई, गहराई और समय से परे होंगे, क्योंकि उर्जा के कणों को इन चारों आयामों से परे तक गायब होते पाया जाएगा और वे फिर से इन चार आयामों की परिधि में लौट आएंगे. DW 00344

7 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा 25 अक्तूबर 2010 को 1:27 am  

ज्ञानवर्धक जानकारी दी आपने।
ब्रह्माण्ड के रहस्य को इंसान अभी तक थोड़ा ही जान पाया है।

राज भाटिय़ा 25 अक्तूबर 2010 को 1:37 am  

देखे आगे आगे क्या होता हे ?धन्यवाद इस जानकारी के लिये

Udan Tashtari 25 अक्तूबर 2010 को 5:15 am  

बहुत रोचक जानकारी दी आपने.

निर्मला कपिला 25 अक्तूबर 2010 को 8:49 am  

रोचक और ग्यानवर्द्धक जानकारी। धन्यवाद।

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP