Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

बीजेपी की वेबसाइट में हाथ साफ

>> 03 अक्तूबर, 2010

 भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस पर बीजेपी के नाम से नकली वेबसाइट बनाने का आरोप लगाया. नकली वेबसाइट का नाम bjp.com रखा गया. इस पर क्लिक करते ही बीजेपी के बजाए कांग्रेस की वेबसाइट खुली. सबूत अब भी इंटरनेट पर मौजूद.
बीजेपी की वेबसाइट का नाम bjp.org है. लेकिन इंटरनेट की दुनिया में अब bjp.com नाम की वेबसाइट भी दिख रही है. कई दिनों तक इस पर क्लिक करते ही सीधे कांग्रेस पार्टी की वेबसाइट खुली. लेकिन अब शिकायत के बाद अचानक यह वेबसाइट गुम हो गई है.

लेकिन गूगल के जरिए bjp.com को सर्च करने पर
नजारा अब भी कुछ इस तरह दिखाई पड़ रहा है.

बीजेपी के नाम से गूगल पर आ रहे इस सर्च पर क्लिक करते ही कांग्रेस की वेबसाइट खुल रही है. गूगल पर इस वेबसाइट की जानकारी दी गई है. इसमें कहा गया है कि यह पेज 21 सितंबर को 19:50:15 जीएमटी यानी भारतीय समयानुसार आधी रात एक बजकर 20 पर इंटरनेट पर आई. लेकिन बाद में इसे बदल दिया गया.

बीजेपी का आरोप है कि कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी के नाम से वेबसाइट खरीदी.पार्टी के  मुताबिक कांग्रेस का हाथ  ऐसा चला कि उसने सारा ट्रैफिक क्रांग्रेस की वेबसाइट पर मोड़ दिया. मामले का पता चलने के बाद बीजेपी ने कांग्रेस को कानूनी नोटिस भेजा है.DW NEWS

11 टिप्पणियाँ:

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार 4 अक्तूबर 2010 को 12:55 am  

धिक्कार है गंदी राजनीति करने वालों को !
लानत है लाख लाख बार …

अब ब्लॉग-वेबसाइट - समुद्र पर भी गंदी मछलियों की नज़र …
शर्म सचमुच बेच खाई है

- राजेन्द्र स्वर्णकार

Sanjeet Tripathi 4 अक्तूबर 2010 को 1:21 am  

चलिए इस खबर से यह तो साफ़ हुआ की जो भाजपा अभी तक कांग्रेस का दुसरा रूप बनने में जी जान से लगी है और सत्ता मिलने पर पूरे तौर पर अपना कांग्रेसीकरण ही कर लेती है. कहीं तो जाकर कांग्रेस अपना भाजपाईकरण कर रही है. साबित हुआ की दोनों ही दल एक ही थैली के ...... हैं...
आशा है की एक आम नागरिक का यह कमेन्ट प्रकाशित होगा...

ललित शर्मा 4 अक्तूबर 2010 को 7:46 am  

इस तरह की साईबर स्क्वैटिंग अब आम हो गयी है।
मेरे नाम के डोमेन कहीं भी उपलब्ध नहीं हैं, ऐसे लोगों ने खरीद रखे हैं, जिन्हे इस नाम से कोई लेना देना नहीं है। अधिक मुल्य में बेचकर मुनाफ़ा कमाने के लिए यह सब कृत्य किए जाते हैं।

Ratan Singh Shekhawat 4 अक्तूबर 2010 को 11:28 am  

१- हो सकता है यह कृत्य किसी व्यक्ति विशेष का हो क्योंकि -कोई भी व्यक्ति किसी भी डोमेन को किसी भी वेब साईट पर रिडायरेक्ट कर सकता है जैसे बीजेपी.कॉम को कांग्रेस की साईट पर किया गया था |
२- पर यदि यह कांग्रेस पार्टी के इशारे पर किया गया हो तो गलत है |
३- बीजेपी की सायबर विंग क्या अब तक सो रही थी ?
जो बीजेपी.कॉम जैसा डोमेन अब तक उन्होंने नहीं ख़रीदा |
४- यदि कोई डोमेन उपलब्ध है तो कोई भी खरीद सकता है यह साईबर स्क्वैटिंगकी श्रेणी में नहीं आ सकता |
जो भी ये प्रकरण निंदनीय है |

S.M.HABIB 4 अक्तूबर 2010 को 5:15 pm  

इंटरनेट में राजनीति....???

राज भाटिय़ा 4 अक्तूबर 2010 को 7:14 pm  

आप सब से सहमत हे जी, धन्यवाद

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari 5 अक्तूबर 2010 को 11:33 pm  

यदि कोई डोमेन उपलब्ध है तो कोई भी खरीद सकता है यह साईबर स्क्वैटिंगकी श्रेणी में नहीं आ सकता है इही सोरा आना सत ये, अडहा बईद परान घाती.
मैं हर पाछू लोकसभा चुनाव म उदगरे सरोज पांडे के वेब साईड के बारे म लिखे रेहेंव कि ओखर सुरक्षा तंत्र अतका कमजोर हावय कि कोनो भी ह चाहही त चुटकी बजा के ओखरे वेब साईड म विरोधी के डाटा डार सकत हे अइसनेहे अउ कई ठिन वेब साईड हे, तभो ले लोगन मगन हें.

महेन्द्र मिश्र 6 अक्तूबर 2010 को 3:19 pm  

क्या कहें इन हैकरों को ...

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari 7 अक्तूबर 2010 को 1:50 pm  

एक टिप्‍पणी छोडी थी इस पोस्‍ट पर अभी तक पब्लिश नहीं हुई, अशोक भईया, ब्‍लॉग जगत में ललित भाई भी अभी कुछ दिनों से नहीं दिख रहे हैं, आप लोग साथ में कोई दौरा पर तो नही हैं ... या दूसरे सेलेब्रिटी की तरह इस ब्‍लॉग में विचार तो आपके है पर ब्‍लॉगिंग कोई और तो नहीं कर रहा है। :) :)
.... यद्धपि हमें आपकी उर्जा और सीखने की ललक का अंदाजा है फिर भी मन में जो बातें थी वो कही, आशा है क्षमा करेंगें।

अशोक बजाज 8 अक्तूबर 2010 को 9:50 am  

भाई संजीव जी ,
मै पिछले चार दिनों से चंपारण में था वहां मेरे पास कोई सुविधा नहीं होने से कोई पोस्ट नहीं डाल पाया आपकी टिप्पणी आते ही प्रकाशित कर रहा हूँ .आभार सहित नव-रात्रि पर्व की बधाई स्वीकार करें .

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP