Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

कश्मीर की आज़ादी यानी भारत का एक और विभाजन

>> 08 दिसंबर, 2010


जम्मू-कश्मीर  में उमर अब्दुल्ला सरकार के  स्वास्थ्य और बागवानी मंत्री शाम लाल शर्मा ने बानी (कठुआ) में हुई रैली में  कश्मीर को भारत से आजाद करने की बात करके अपने आप को पाकिस्तान समर्थक होने का प्रमाण दिया है . शर्मा ने इस रैली में कहा कि जम्मू को अलग राज्य बना दिया जाए और लद्दाख को केंद्र शासित प्रदेश बना कर कश्मीर को आजाद कर दिया जाना चाहिए . उनके इस बयान से सदैव  देश की एकता और अखंडता की बात करने वाले नेताओं की कलई खुल गई है . देश के एक राज्य के एक मंत्री के इस राष्ट्र-विरोधी बयान को हल्के में नहीं लेना चाहिए . पहली बात तो यह है कि यह बयान  ऐसे समय में आया है जब कश्मीर में उग्रवादी गतिविधियाँ चरम पर है . दूसरी बात जो समझ में आ रही है वह यह है कि भारत की आज़ादी के ६३ साल बाद भी यदि कश्मीर समस्या का हल निकल नहीं पाया है तो उसके लिए शमा  जैसे पाक-प्रेमी  लोग जिम्मेदार है  जो स्वयं अपने मन-वचन और कर्म से अपने आप को पाक-प्रेमी होने का प्रमाण देंते रहते है .
केंद्र और जम्मू-कश्मीर दोनों जगह यू.पी.ए. की सरकार है ऐसी स्थिति यदि  शर्मा पर  तत्काल कोई बड़ी कार्यवाही नहीं होती तो  यह माना जाना चाहिए कि केंद्र सरकार भी कश्मीर की आज़ादी  की पक्षधर है .  



10 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा 8 दिसंबर 2010 को 6:25 am  

काश्मीर पर इस तरह के बयान उमर अब्दुल्ला सरकार के देशद्रोही मंसुबों को प्रगट कर रहे हैं।
काश्मीर को बचाने के लिए आजादी के बाद से लेकर आज तक लाखों सैनिकों ने अपने प्राणों की आहुति दी है और देश की जनता ने अपनी गाढी कमाई काश्मीर पर न्यौछावर की है।
इस बयान की घोर भर्तसना करते हैं। शाम लाल शर्मा के खिलाफ़ देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करना चाहिए।

अरविन्द जांगिड 8 दिसंबर 2010 को 6:38 am  

कश्मीर का जो विवाद है, उसका मूल कारण हैं, स्पष्ट सोच का अभाव. दिल्ली में कुछ बयान, कश्मीर में कुछ और. राजनैतिक स्वार्थ के आगे राष्ट्रीय अखंडता फिकी पड़ जाती है.

स्वार्थपरक भ्रष्ट नेताओं कि घोर सामाजिक भ्रस्त्रना कि जानी चाहिए, साथ ही क़ानूनी कार्यवाही भी.

आपका आभार.

Rahul Singh 8 दिसंबर 2010 को 8:04 am  

कश्‍मीर से जो खबरें आती हैं, उससे समझना कठिन होता है कि वहां जीवन कितना सामान्‍य है, जबकि प्राथमिकता तो यही होनी चाहिए.

jainanime 8 दिसंबर 2010 को 10:07 am  

abhivayakti ki swatantrata ko hamare netaon ne rajneeti ka hathiyaar bana liya hai . shaam lal sharma ji ke ish bayan ki jitni ninda ki jaye kam hai.
animesh jain

mukes agrawal 8 दिसंबर 2010 को 12:25 pm  

kasmir issu..nehrunitt confress ki banana repblic ke ko mili saugat hai..jisse manmohan aur duurh bana rahae hai!

'उदय' 8 दिसंबर 2010 को 4:13 pm  

... in nikammon ko paakistaan ki durdashaa samajh nahee aa rahee hai ... jo mar rahe hain ... !!!!

राज भाटिय़ा 8 दिसंबर 2010 को 8:25 pm  

हमारे नेताओ ने बेकार का झंझट खडा कर रखा हे , हल तो एक दिन मे निकल आये. धन्यवाद

Tarkeshwar Giri 9 दिसंबर 2010 को 4:43 pm  

Ek din Hame free kar do, Na masla hal kar diya to kahiyega.

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" 9 दिसंबर 2010 को 7:29 pm  

इन लोगों नें ही भारत में इक पाकिस्तान(कश्मीर के रूप में) बनाया है.
सब राजनीति की माया है...सब राजनीति की माया है.

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP