Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

बाबा गुरू घासीदास की जयन्ती पर हार्दिक बधाई !

>> 18 दिसंबर, 2010

सतनाम पंथ के प्रवर्तक बाबा गुरू घासीदास की आज  जयन्ती है , पूरे छत्तीसगढ़ में उनके अनुयायी बड़े   धूमधाम से  यह पर्व मानते है वे मानवता के पुजारी थे . उनकी मान्यता थी - " मनखे मनखे एक हे ,मनखे के धर्म एक हे " .  उन्होंने जीवन मूल्यों पर अधिक ध्यान दिया तथा लोंगो को शराब व मांस के सेवन से मुक्ति दिलाई. बाबा गुरू घासीदास ने समाज को सत्य, अहिंसा, समानता, न्याय और भाईचारे के मार्ग पर चलने की सीख दी . उनके विचारों से प्रेरणा लेकर हमने 18 दिसंबर 2007 को उनकी जयन्ती के अवसर पर " नशा हे ख़राब : जहाँ पीहू शराब "का नारा देते हुए  नशामुक्ति आन्दोलन की शुरुवात की थी . इस आन्दोलन से सम्बंधित एक पोस्ट हमने 24/06/2010 को लगाई थी,  इस ब्लॉग में नशापान एवं धुम्रपान से सम्बंधित कुछ  और भी आलेख है .
       बाबा गुरू घासीदास की  जयन्ती के अवसर  पर सतनामी  संप्रदाय के सभी बहनों और भाइयों को हार्दिक बधाई !


9 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा 18 दिसंबर 2010 को 10:25 am  

मनखे मनखे एक समान का संदेश देने वाले गुरु घासीदास जी की पावन जयंती 18 दिसंबर पर हार्दिक शुभकामनाएं।

Swarajya karun 18 दिसंबर 2010 को 11:41 am  

ब्लॉग के माध्यम से गुरु बाबा घासीदास जी के महान विचारों की सारगर्भित और सार्थक प्रस्तुति के लिए आपको बहुत -बहुत धन्यवाद. बाबा की जयन्ती पर हार्दिक बधाई .

'उदय' 18 दिसंबर 2010 को 12:56 pm  

... हार्दिक बधाई !!!

राहुल पंडित 18 दिसंबर 2010 को 3:50 pm  

गुरूजी को शत-शत नमन...जानकारीपरक लेख के लिए धन्यवाद

Rahul Singh 18 दिसंबर 2010 को 9:52 pm  

इस पावन पर्व पर बधाई.

S.M.HABIB 19 दिसंबर 2010 को 9:44 am  

ढेरों बधाई और शुभकामनाएं.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" 19 दिसंबर 2010 को 7:52 pm  

बाबा गुरू घासीदास की जयन्ती पर बहुत-बहुत बधाई!

प्रवीण पाण्डेय 20 दिसंबर 2010 को 12:31 pm  

हार्दिक शुभकामनायें।

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP