Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

' राजिम कुंभ '

>> 18 फ़रवरी, 2011

आज माघ पूर्णिमा है ,आज के दिन प्रति वर्ष छत्तीसगढ़ के प्रयाग राज के नाम से प्रसिध्द तीर्थ राजिम में चित्रोत्पला गंगा महानदी के किनारे माघ पूर्णिमा से महाशिवरात्रि यानी 15 दिनों तक भव्य मेला भरता है.राजधानी रायपुर से लगभग 45 कि.मी. दूर राजिम में महानदी,पैरी एवं सोढुल इन् तीन नदियों का संगम है .त्रिवेणी संगम पर भगवान कुलेश्वर महादेव का प्राचीन मंदिर है.  नदी के दाई ओर राजिम तथा बाई ओर नवापारानगर है ,जो आसपास का एक बडा व्यवसायिक केन्द्र है .राजिम में भगवान राजीव लोचन का भव्य एवं प्राचीन मन्दिर है जहाँ बारहों महिने श्रद्धालु दर्शन करने आते है इस मन्दिर परिसर में ही भक्तिन राजीम तेलिन का मन्दिर है .कहाँ जाता है कि भक्तिन राजीम तेलिन के नाम से ही इस नगरी का नाम राजिम पडा .

परम्परागत वार्षिक पुन्नी मेला पिछले पाँच वर्षों से ' राजिम कुंभ ' के रूप में आयोजित किया जाने लगा है . यह छठवां वर्ष है इसलिए इस वर्ष इस मेले को अर्द्ध-कुंभ का नाम दिया गया है .छतीसगढ़ शासन द्वारा मेले की व्यापक तैयारियां की गई है .आप सबने इस मेले में आने की तैयारी कर ली होगी यदि नही की है तो तत्काल तैयारी कर लें .
 
आपको माघ पूर्णिमा एवं राजिम अर्द्ध-कुंभ की बहुत बहुत बधाई  !!!

7 टिप्पणियाँ:

ललित शर्मा 18 फ़रवरी 2011 को 1:26 am  

फ़ुल तैयारी है।

उन्हारी की फ़सल बयारा तक पहुंचने की बधाई।

Rahul Singh 18 फ़रवरी 2011 को 5:49 am  

पहले माघ पूर्णिमा फिर पुन्‍नी मेला क्‍यों लिखा गया है, स्‍पष्‍ट नहीं हो रहा है, लेकिन यहां आ कर सुबह सबेरे राजीव लोचन के दर्शन हो गए, धन्‍यवाद.

Swarajya karun 18 फ़रवरी 2011 को 9:26 pm  

छत्तीसगढ़ की सांस्कृतिक धरोहर हैं-राजिम और शिवरीनारायण के माघ-पूर्णिमा के विशाल परम्परागत मेले. राजिम मेले को बेहतर प्रबंधन के जरिए'राजिम-कुम्भ'के नाम से देश भर में एक खास पहचान दिलाने के लिए रमन-सरकार को बहुत-बहुत बधाई और धन्यवाद . ज्ञानवर्धक आलेख और सुंदर प्रस्तुति के लिए आपका आभार. माघ-पूर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं .

संजीव तिवारी .. Sanjeeva Tiwari 19 फ़रवरी 2011 को 8:27 am  

जहॉं घंटियों का सरगम है, जहां वंदना की वाणी, ... महानदी के कल-कल में हंसती कविता कल्‍याणी, ... सुनकर आतुर हो जाता है जिनका लेने पावन नाम, अखिल विश्‍व के शांति प्रदायक राजीव लोचन तुम्‍हें प्रणाम. पवन दीवान जी की पंक्तियों के साथ आपको माघ पूर्णिमा एवं राजिम अर्द्ध-कुंभ की बहुत बहुत बधाई !

किन्‍तु बड़े भाई मेले के सरकारी आयोजन व भारी भरकम बजट के औचित्‍य पर मेरे मन में कुछ प्रश्‍न अनुत्‍तरित रहे हैं, कभी लिखूंगा या आपसे भेंट होगी तब कहूंगा। आपने सकारात्‍मक कार्यों का सदैव साथ दिया है दारूबंदी के रद्दा अब चातर होवत हे

प्रवीण पाण्डेय 19 फ़रवरी 2011 को 1:52 pm  

आप सब को उत्सव की बहुत बहुत बधाई।

manish 20 फ़रवरी 2011 को 12:42 pm  

माघ पूर्णिमा एवं राजिम अर्द्ध-कुंभ की बहुत बहुत बधाई !

manish 20 फ़रवरी 2011 को 12:43 pm  

माघ पूर्णिमा एवं राजिम अर्द्ध-कुंभ की बहुत बहुत बधाई !

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP