Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

नव-रात्रि हिन्दुओं का पावन पर्व

>> 05 अप्रैल, 2011




व-रात्रि पर्व की धूम मची है ,डगर- डगर और गांव-गांव में मंगल व उत्साह का वातावरण दृष्टिगोचर हो रहा है । समुचा देश 4 अप्रेल से माँ की भक्ति में डूबा है , यह सिलसिला 12 अप्रेल 2011 तक यानी रामनवमी तक चलेगा ।

नव-रात्रि  हिन्दुओं का  पावन  पर्व है। नवरात्रि संस्कृत शब्द है, जिसका अर्थ होता है नौ रातें । यह पर्व साल में दो बार आता है। एक शारदीय नवरात्रि, दूसरा है चैत्रीय नवरात्रि। नवरात्रि के नौ रातों में तीन  देवियों - पार्वती, लक्ष्मी और सरस्वती के नौ स्वरुपों की पूजा होती है जिन्हें  नवदुर्गा कहते हैं ।


 नौ देवियाँ है :-

 श्री शैलपुत्री

श्री ब्रह्मचारिणी

श्री चंद्रघंटा

श्री कुष्मांडा

श्री स्कंदमाता

श्री कात्यायनी

श्री कालरात्रि

श्री महागौरी

श्री सिद्धिदात्री

शक्ति की उपासना का पर्व शारदेय नवरात्र प्रतिपदा से नवमी तक निश्चित नौ तिथि, नौ नक्षत्र, नौ शक्तियों की नवधा भक्ति के साथ सनातन काल से मनाया जा रहा है। सर्वप्रथम श्रीरामचंद्रजी ने इस शारदीय नवरात्रि पूजा का प्रारंभ समुद्र तट पर किया था और उसके बाद दसवें दिन लंका विजय के लिए प्रस्थान किया और विजय प्राप्त की । तब से असत्य, अधर्म पर सत्य, धर्म की जीत का पर्व दशहरा मनाया जाने लगा। आदिशक्ति के हर रूप की नवरात्र के नौ दिनों में क्रमशः अलग-अलग पूजा की जाती है। माँ दुर्गा की नौवीं शक्ति का नाम सिद्धिदात्री है। ये सभी प्रकार की सिद्धियाँ देने वाली हैं। इनका वाहन सिंह है और कमल पुष्प पर ही आसीन होती हैं । नवरात्रि के नौवें दिन इनकी उपासना की जाती है।

नवदुर्गा और दस महाविधाओं में काली ही प्रथम प्रमुख हैं। भगवान शिव की शक्तियों में उग्र और सौम्य, दो रूपों में अनेक रूप धारण करने वाली दस महाविधाएँ अनंत सिद्धियाँ प्रदान करने में समर्थ हैं। दसवें स्थान पर कमला वैष्णवी शक्ति हैं, जो प्राकृतिक संपत्तियों की अधिष्ठात्री देवी लक्ष्मी हैं। देवता, मानव, दानव सभी इनकी कृपा के बिना पंगु हैं, इसलिए आगम-निगम दोनों में इनकी उपासना समान रूप से वर्णित है। सभी देवता, राक्षस, मनुष्य, गंधर्व इनकी कृपा-प्रसाद के लिए लालायित रहते हैं।
आप सबको हिन्दु नव-वर्ष एवं नव-रात्रि पर्व की ढेर सारी बधाईयाँ     
 
PHOTO BY GOOGLE

5 टिप्पणियाँ:

प्रवीण पाण्डेय 5 अप्रैल 2011 को 9:44 pm  

आप सबको ढेर सारी बधाईयाँ।

Rahul Singh 5 अप्रैल 2011 को 9:55 pm  

आपको भी ढेरों-ढेर बधाइयां.

अरुण कुमार निगम 5 अप्रैल 2011 को 11:06 pm  

बहुत ही सुन्दर तस्वीर के साथ सुन्दर सा लेख .हिन्दू नव-वर्ष की शुभ कामनाएं.चैत्र माह पर ऋतु-चित्रण का रसास्वादन करने कभी हमारे ब्लॉग में पधारें.

Swarajya karun 6 अप्रैल 2011 को 7:55 am  

सुंदर प्रस्तुति. चैत्र नवरात्रि और भारतीय नव वर्ष की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं

ललित शर्मा 6 अप्रैल 2011 को 9:27 pm  

चैत्र नवरात्रि और भारतीय नव वर्ष की हार्दिक बधाई

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP