Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

सरहद का माखौल

>> 22 जून, 2011

अमेरिकन मॉली आउल

आज ही  खबर  मिली  कि अमेरिकी उल्लू भारत पहुँच गया है . यह भारत कब, कैसे और क्यों आया यह शोध का विषय हो सकता है  . यह भी शोध का विषय हो सकता है कि उसकी भारत के प्रति  रूचि क्यों जागृत हुई .

बहरहाल अमेरिकन मॉली आउल नाम का एक विरल प्रजाति का उल्लू तमिलनाडु के नागपट्टनम जिले में पाया गया है. थेरक्कुपोयगायनाल्लुर गांव में किसान अइयप्पन को अपने धान की खेत में यह घायल पंछी मिला. हो सकता है कि यह पंछी गांव के नाम से आकर्षित हुआ था. बहरहाल, किसान अइयप्पन ने उसके लिए दाना पानी का बंदोबस्त किया, जाहिर है कि रात के दौरान. दिन भर यह पंछी सोता रहा होगा. फिर जब शाम ढली, तो उसे एक पशु चिकित्सक के पास ले जाया गया. इस बीच इस अजूबे पंछी को वन विभाग के सुपुर्द कर दिया गया है.

वैसे किसी को इस पक्षी के भारत आने पर आपत्ति नहीं होनी चाहिए क्योंकि पक्षियों के लिए सारा संसार एक घर है .अतः पक्षियों को सरहद पार करने के लिए बीजा या पासपोर्ट की जरुरत नहीं पड़ती . सरहद तो मनुष्य ने मनुष्य के लिए ही बनायें है . पक्षी सदा मनुष्य के बनाये हुए सरहद का माखौल उड़ाते है .



Rare breed of owl spotted at Nagai

 

NAGAPATTINAM: A rare breed of owl, mostly found in North America, was spotted in a paddy field here by a farmer on Friday.� The nocturnal bird, which has suffered injuries, was handed over to the forest department.� Wildlife experts said that it belonged to a species named ‘Molly’ which was said to have originated from California in the USA.� Out of the 189 types of owls found in the world, Molly was an important variety.� The bird might have taken shelter in a ship and reached Nagapattinam, he said and added that it was also possible that it could have migrated on its own. The brown coloured bird was noticed by Aiyappan, a farmer of Therkkupoigainallur village, at a paddy field. It was found with injuries and was not in a position to fly.� He had brought it home and gave water to it.� Dr Asokan examined the bird and provided first-aid. Later, it was handed over to the Forest department.� After first-aid, the owl gained strength. Now it is under the care of Nagapattinam wildlife department.  NEWS







10 टिप्पणियाँ:

Er. Diwas Dinesh Gaur 22 जून 2011 को 1:03 am  

वाह सही कहा आपने...इंसानों के आपसी झगडे का खामियाजा भला पशु पक्षी क्यों भुगतें?

Rahul Singh 22 जून 2011 को 6:44 am  

पक्षीविज्ञानियों के टीप की प्रतीक्षा रहेगी. (वैसे आपने खबर का स्रोत दिया होता तो बेहतर होता.)

ब्लॉ.ललित शर्मा 22 जून 2011 को 8:13 am  

पाकिस्तान होता तो इसे किसी बम धमाके की साजिश रचने का आरोप लगा कर जेल में बंद कर दिया। फ़िर इसकी सात पी्ढी भी बिना पासपोर्ट और वीजा के सरहद पार करने के बारे में 1000 बार सोचती :)

प्रवीण पाण्डेय 22 जून 2011 को 9:51 am  

बड़ी चिन्तनशील मुखमुद्रा लग रही है।

अशोक बजाज 22 जून 2011 को 10:23 pm  

@ Rahul Singh Ji ,

आप की भावना के अनुरूप खबर का श्रोत पोस्ट में डाल दिया गया है .उत्तम सुझाव के लिए धन्यवाद !

PRAMOD KUMAR 26 जून 2011 को 1:33 pm  

अमेरिकी उल्लू............लगता है बराक ओबामा जी का कोई पैगाम लेकर भारत आया होगा........!

PRAMOD KUMAR 26 जून 2011 को 1:35 pm  

अमेरिकी उल्लू............लगता है बराक ओबामा जी का कोई पैगाम लेकर भारत आया होगा........!

PRAMOD KUMAR 26 जून 2011 को 1:38 pm  

अमेरिकी उल्लू............लगता है बराक ओबामा जी का कोई पैगाम लेकर भारत आया होगा........!

PRAMOD KUMAR 26 जून 2011 को 1:41 pm  

अमेरिकी उल्लू............लगता है बराक ओबामा जी का कोई पैगाम लेकर भारत आया होगा........!

PRAMOD KUMAR 26 जून 2011 को 3:50 pm  

अमेरिकी उल्लू............लगता है की बराक ओबामा का कोई महत्वपूर्ण सन्देश लेकर भारत आया होगा...........

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP