Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

ब्लॉगरों सावधान

>> 29 जून, 2011

गूगल के ज़रिए सेंसरशिप ?

 


कहने के लिए तो भारत में मीडिया स्वतंत्र है और अभिव्यक्ति की पूरी आज़ादी है लेकिन क्या सरकारें और प्रशासन अपनी निंदा बर्दाश्त कर पाते हैं ?

अगर सर्च इंजिन गूगल की मानें तो उत्तर होगा, नहीं.

गूगल की 'ट्रांसपरेंसी रिपोर्ट' के मुताबिक़ छह महीनों में प्रशासन और यहाँ तक कि अदालतों की ओर से भी गूगल से कई बार कहा गया कि वे मुख्यमंत्रियों और अधिकारियों की आलोचना करने वाले रिपोर्ट्स, ब्लॉग और यू-ट्यूब वीडियो को हटा दें. पूरी रिपोर्ट पढ़ने के लिए कृपया क्लिक करें  ...... 

   अशोक बजाज , अभनपुर , रायपुर . ashok bajaj abhanpur raipur chhattisgarh


2 टिप्पणियाँ:

दिवस 29 जून 2011 को 11:32 pm  

हाँ अब सरकार का डर सामने आ रहा है, और आना भी चाहिए, क्यों कि देश अब जाग रहा है...कहाँ तक छिपेंगे ये भ्रष्ट, इन्हें तो नंगा करके ही रहेंगे हम...

प्रवीण पाण्डेय 30 जून 2011 को 7:15 pm  

अभिव्यक्ति मर्यादित हो, हर संभव।

एक टिप्पणी भेजें

चिट्ठाजगत

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP