Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

सावधान: यहाँ खेती करना ग़ैरक़ानूनी है

>> 28 जून, 2011


त्तर प्रदेश के अलीगढ़ ज़िले के ज़िक्रपुर गाँव के किसान अपनी फ़सलें उजाड़े जाने का ब्यौरा देते हैं. ग्रेटर नोएडा से आगरा तक जाने वाले यमुना एक्सप्रेसवे के किनारे बसा ये वो गाँव है जहाँ पिछले साल 14 अगस्त को आंदोलनकारी किसानों और पुलिस के बीच भिड़ंत हुई थी. यहाँ काफ़ी किसानों ने अपनी ज़मीन के बदले मुआवज़ा ले लिया. लेकिन बहुत से किसान कहते हैं कि उन्होंने न सरकार को ज़मीन देने वाले क़रार पर दस्तख़त किए और न ही उन्हें कोई मुआवज़ा मिला है, मगर फिर भी राजस्व के दस्तावेज़ों में अब ज़मीन उनके नाम नहीं रही.

 

 किसान कहते हैं कि उन्होंने हर साल की तरह इस साल भी खेतों में फ़सलों की बुआई की लेकिन 27 मई को स्थानीय प्रशासन के अधिकारी हथियारबंद पुलिस वालों को साथ लेकर आए और पूरे गाँव को घेर लिया गया और कुछ ही देर में खेतों में उग रही फ़सलों पर ज़िला प्रशासन ने ट्रेक्टर और रोलर फेर दिया.

 

हाल ही में ग्रेटर नोएडा और आगरा के बीच पड़ने वाले गाँवों की यात्रा से लौटे बीबीसी संवाददाता राजेश जोशी की रिपोर्ट.  आगे वीडियो यहाँ देंखें .................

 अशोक बजाज , अशोक बजाज ,अशोक बजाज ,अशोक बजाज,सावधान: यहाँ खेती करना ग़ैरक़ानूनी है , 

6 टिप्पणियाँ:

ब्लॉ.ललित शर्मा 28 जून 2011 को 10:03 pm  

इस वीडियो एम्बेड को्ड़ काम नहीं कर रहा है। फ़िर से लगाएं।

अशोक बजाज 28 जून 2011 को 11:02 pm  

@ श्री ब्लॉ.ललित शर्मा जी ,
विडिओ का लिंक दे दिया हूँ , धन्यवाद .

अशोक बजाज 28 जून 2011 को 11:04 pm  

@ श्री प्रवीण पाण्डेय जी ,
ये नियम नहीं , बेरहमी है ; धन्यवाद .

Rahul Singh 29 जून 2011 को 7:18 am  

राज-काज की बातें, जनता-जनार्दन का दर्द.

PRAMOD KUMAR 29 जून 2011 को 5:20 pm  

प्रसाशन की तानाशाही के आगे बेबस किसान ..............!

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP