Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

125 साल बाद मिली न्यूजीलैंड की सिलिका की परतें

>> 15 जून, 2011



न्यूजीलैंड की एक शोध संस्था ने बताया है कि सवा सौ साल पहले ज्वालामुखी की राख में दफन हुई सिलिका की सिलसिलेवार सतहें फिर से मिल गई हैं.न्यूजीलैंड के उत्तरी द्वीप की एक झील में मिलीं इस सिलिका के बारे में अभी तक यह समझा जा रहा था कि ये खो गई हैं.  सन 1886  में न्यूजीलैंड में हुए अब तक के सबसे बड़े ज्वालामुखी विस्फोट में करीब 100  लोग मारे गए थे तथा वहां का बहुत बड़ा हिस्सा राख व लावे में दब गया था.

सफेद छत के नाम से मशहूर सिलिका की सिलसिलेवार परतें न्यूजीलैंड के उत्तरी द्वीप की रोतोमाहना झील के तल पर मिली हैं. जनवरी में यह व्हाइट टेरेसेस मिलीं. एक जमाने में न्यूजीलैंड में व्हाइट और पिंक टेरेस पर्यावरण का मुख्य आकर्षण होती थीं.  समझा जा रहा था कि जून 1886  में माउंट तारावेरा में ज्वालामुखी विस्फोट के बाद यह नष्ट हो गईं.  लेकिन वैज्ञानिकों ने झील की सतह पर सोनार सर्वे के विश्लेषण के दौरान इन सिलिका की परतों के बारे में पता लगाया.

रोतोमाहना झील में सबसे गहरा हिस्सा 122 मीटर नीचे है. यह सिलिका की सतहें 60 मीटर नीचे हैं और एक दूसरे से 100 मीटर की दूरी पर हैं.

प्रोजेक्ट प्रमुख कोर्नेल डी रोंडे ने कहा कि झील की सतह नर्म तलछट और कीचड़ वाली है. जिस सोनर इमेज से व्हाइट टेरेसेस के बारे में पता चला वह प्रोजेक्ट खत्म होने के बाद मिलीं.  यह 100 मीटर लंबे आड़े हिस्से में है. लेकिन हम नहीं जानते कि यह सतह का कौन सा भाग है.



साभार गूगल, डी.डब्लू .हिंदी , Volcano लाइव



इसके लिए वीडिओ   .......
  
                                

6 टिप्पणियाँ:

ब्लॉ.ललित शर्मा 15 जून 2011 को 2:04 am  

नयी जानकारी मिली।
आभार

Swarajya karun 15 जून 2011 को 9:38 pm  

महत्वपूर्ण ,ज्ञानवर्धक और सूचनात्मक आलेख. सराहनीय प्रस्तुति के लिए आभार .

Rahul Singh 15 जून 2011 को 9:54 pm  

रत्‍नगर्भा धरती.

PRAMOD KUMAR 17 जून 2011 को 12:33 pm  

सवा सौ साल पहले ज्वालामुखी की राख में दफन हुई सिलिका की परतो को खोज निकालने के लिए न्यूजीलैंड के वैज्ञानिकों को बहुत बहुत बधाई----! साथ ही इस ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए आपको भी बधाई----!

PRAMOD KUMAR 17 जून 2011 को 12:42 pm  

सवा सौ साल पहले ज्वालामुखी की राख में दफन हुई सिलिका की परतो को खोज निकालने के लिए न्यूजीलैंड के वैज्ञानिकों को बहुत बहुत बधाई----! साथ ही इस ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए आपको भी बधाई----!

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP