Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

मेरी नेपाल यात्रा ( छठवीं किस्त )

>> 27 जुलाई, 2011

हिमालय पर्वतमाला की वादियों में बसे प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण पावन धरा नेपाल  में 9 जुलाई से 12 जुलाई 2011 को आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय  सहकारी सेमीनार में भाग लेने का अवसर मिला.इस सेमीनार का आयोजन राष्ट्रीय सहकारी बैंक प्रबंधन एवं प्रशिक्षण संस्थान बैंगलोर ने किया था . इन चार दिनों में नेपाल की प्रकृति, संस्कृति, रहन सहन, वेशभूषा, कृषि, पर्यटन एवं धर्म सम्बंधी अनेक जानकारी हमें मिली. नेपाल सांवैधानिक दृष्टि से एक अलग राष्ट्र है ; यहाँ का प्रधान, निशान व विधान भारत से अलग है, लेकिन रहन-सहन, बोली-भाषा और वेशभूषा लगभग एक जैसी है .नेपाल हमें स्वदेश जैसा ही प्रतीत हुआ .यह मेरी विदेश-यात्रा थी . नेपाल यात्रा की  छठवीं  किश्त......


खेत,पहाड़,नदी,केबल कार और " मेरे देश की धरती सोना उगले........"  के साथ पूरी  हुई मनकामना
 
चाय की  दूकान में दारू का भंडार


11 जुलाई  2011 को मनोकामना देवी के दर्शन का कार्यक्रम बना. आचार्य एकादशी होने के कारण कुछ लोगों का उपवास था . सारे प्रतिनिधि सुबह 8 बजे दो बसों में रवाना हुये. काठमांडू से कुछ दूर जाने के बाद बागमती नदी दिखाई दी. नदी के किनारे-किनारे मार्ग बना है. काफी घुमावदार रास्ता है, मनकामना की दूरी काठमांडू से लगभग  125 कि.मी. है लेकिन वहां पहुंचने में हमें चार-साढ़े चार  घंटे लग गये. रास्ते भर हरे-भरे पेड़ पौधों से घिरे पहाड़ियों को निहारते  रहे.  ऐसा लग रहा था मानो  पूरा नेपाल देश  पहाड़ों में बसा है. हमें कहीं भी सघन बस्ती दृष्टिगोचर नही हुई. पहाड़ी की ऊंचाइयों में दूर-दूर तक एक एक, दो-दो घर दृष्टिगोचर हुये. पहाड़ी के बीच बीच में छोटे छोटे खेत बनाये गये है, 100-200 वर्ग फीट के भी खेत दिखाई दिये. जहां जगह मिली लोगों ने थोड़ा  समतल कर खेत बना लिया  है. वहां के किसान कहीं कहीं धान की कटाई कर रहे थे  तो कहीं धान की रोपाई . यानी धान की कटाई और रोपाई का काम साथ-साथ चल रहा था. कुछ खेतों में भुट्टे के पौधे भी दिखाई दिये.  भुट्टे के पौधों की ऊंचाई 4-5 फीट की हो गई थी.पहाड़ी की ऊपरी सतह से निकलने वाले झरने के  पानी को छोटी-छोटी नालियां बनाकर खेतों में सिचाई की व्यवस्था  की गई  है.  बाघमती नदी में अच्छा खासा पानी था लगता है, पिछले 24 घंटे में इस इलाके में बारिश हुई होगी .

बस यात्रा बड़ी अविस्मरनीय  रही  . मै जिस बस में बैठा था उसमें मध्यप्रदेश , पंजाब , गोवा और महाराष्ट्र के लोग बैठे थे . महाराष्ट्र और गोवा के महिला पुरुष सदस्यों की संख्या लगभग 20  रही होगी . सबने गीत संगीत शुरू कर दिया . अंताक्षरी भी हुई ," तुतक तुतक तुतियां .........." से लेकर " मेरे देश की धरती सोना उगले .........." जैसे गीत सुनने को मिला . कुछ कलाकार भी थे जिन्होंने अनेक पुराने नगमें सुनाये .रास्ता कटता गया ,  लगभग  10 बजे एक पड़ाव आया अतः चाय पीने के लिए रुके . ताईवानी टूरिस्ट वहां पहले से मौजूद थे , यहाँ पर ताईवानी टूरिस्टों के साथ संयुक्त फोटोग्राफी भी हुई . इन्डियन भी खुश ,ताईवानी भी खुश . लगभग 12.30  बजे मनकामना मंदिर के पास पहुंचे . बस से उतरने के बाद बताया गया कि लगभग 2000मीटर की उचाई चढ़ने के बाद ही मनकामना देवी के दर्शन हो पायेगा . ऊपर जाने के लिए रोपवे की सुविधा है , अतः ट्राली यानी केबल कार की टिकिट लेकर बारी बारी से हम सब ऊपर गए . एक ही रोपवे में 50 से अधिक ट्रालियां चलते देख कर मन आनंदित हो उठा . यहाँ का रोपवे अत्यंत ही आधुनिक तकनीक से बना है . ट्राली में बैठ कर नदी , पहाड़ और बस्ती का दृश्य बड़ा सुहावना लग रहा था . कुछ मिनट में हम पहाडी के ऊपर पहुँच गए . वहां मनकामना देवी का दर्शन कर हमने एक मारवाड़ी भोजनालय में भोजन किया सो नीचे आने में हमें कुछ विलंब हो गया . लगभग दोपहर 2 बजे नीचे उतरे तो  भूख और धूप से व्याकुल बाकी सहयात्री हमारी प्रतिक्छा   कर रहे थे ,  विलंब से  पहुँचने की काफी प्रतिकूल प्रतिक्रिया हुई . दरअसल लंच का आर्डर कहीं और दिया गया था जो वहां से करीबन 10 कि.मी. दूर था . वहां सबने भोजन किया . फिर चल पड़े काठमांडू की ओर .   

लगभग  शाम 5 बजे थाकरे नामक छोटी सी जगह में चाय पीने के लिए रुके . यहाँ पर दो छोटे छोटे चाय के दूकान थे . दूकानों में चाय नाश्ते के आलावा शराब की बोतलें भी सजी थी . हम तो आश्चर्य में पड़ गए . वहां पर दो स्थानीय व्यक्ति मिले जिनसे काफी देर तक हिंदी में बातचीत हुई , एक ने अपना  नाम बद्रीप्रसाद अधिकारी तो दूसरे ने चिंतामणि नेवपाने बताया .  दोनों से खेतीबाड़ी , रहन-सहन , शिक्षा-दीक्षा से लेकर पंचायत प्रणाली पर खूब देर तक चर्चा हुई .    क्रमशः ..



                                                                              


6 टिप्पणियाँ:

ब्लॉ.ललित शर्मा 27 जुलाई 2011 को 8:58 am  

काहे के लिए जी जला रहे हो भैया,
काश! हम भी होते वहाँ। :)

अशोक बजाज 27 जुलाई 2011 को 9:09 am  

@ ब्लॉ.ललित शर्मा जी ,
कहीं आप यह तो नहीं कहना चाह रहें है ----- जलता हुआ चिराग हूँ मगर रोशनी नहीं ........

प्रवीण पाण्डेय 27 जुलाई 2011 को 9:13 am  

सुन्दर सा देश, नेपाल।

PRAMOD KUMAR 27 जुलाई 2011 को 12:10 pm  
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
PRAMOD KUMAR 27 जुलाई 2011 को 12:14 pm  

मनकामना मंदिर की यात्रा के साथ ही नेपाल की प्राकृतिक सुन्दरता का वर्णन मनमोहक है................!
"नशा हे ख़राब : झन पीहू शराब" के आपके लोकप्रिय नारे की नेपाल में भी जरूरत है ...............!

जाट देवता (संदीप पवाँर) 29 जुलाई 2011 को 6:37 am  

बिना जाये मन नहीं मानेगा।

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP