Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

खुश हो जाइये क्योंकि अब आप अमीर हैं

>> 22 सितंबर, 2011



एक मजे की बात सुनो ........

प यदि भारत के किसी शहर में रहते हैं और आपका प्रतिदिन का खर्चा 32 रु. या उससे अधिक है तो आप अमीर हैं . यदि आप भारत के किसी गाँव में रहते हैं  और आपका प्रतिदिन का खर्चा 26 रु. या उससे अधिक है तो आप गरीब कदापि नहीं हैं  .जी हाँ योजना आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफ़नामा दाखिल कर कहा है कि शहरी क्षेत्रों में 965 रुपए प्रति माह और ग्रामीण क्षेत्रों में 781 रुपए प्रति माह कमाने वाले व्यक्ति को हरगिज  ग़रीब नहीं कहा जा सकता. इस स्थिति में आप  सरकार की उन कल्याणकारी योजनाओं और सुविधाओं के पात्र नहीं है जो गरीबी रेखा के नीचे जीवन यापन करने वाले लोगों के लिए बनाई गई है .
 
नए मापदंड के मुताबिक़ शहर मे रहने वाला पांच सदस्यों का परिवार अगर महीने में 4,824 रुपए कमाता है, तो उसे कल्याणकारी योजनाओं के लिए योग्य नहीं कहा जा सकता. वहीं ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले 5 सदस्यीय  परिवार के लिए मासिक 3,905 रुपए की कमाई उन्हें बी.पी.एल. से ऊपर यानी ए.पी.एल. की श्रेणी में नाम दर्ज करने के लिए काफी है . लिहाज़ा उन्हें  केंद्र और राज्य सरकारों की तरफ़ से ग़रीबों के लिए चलाए जाने वाली योजनाओं से महरूम रहना होगा .

अब सवाल यह उठता है कि इतनी कमाई क्या एक परिवार की खाद्यान , आवास , चिकित्सा , शैक्षणिक आवश्यकता तथा अन्य पारिवारिक व सामाजिक दायित्वों को पूरा करने के लिए पर्याप्त है . भीषण बढ़ती महंगाई के युग में योजना आयोग ने बी.पी.एल. का जो नया पैमाना केंद्र सरकार की सहमति से प्रस्तुत किया है वह अत्यंत ही हास्यास्पद है तथा गरीबी का सीधा मजाक है . पिछले कुछ वर्षों से मध्यम वर्ग तथा निम्न मध्यम वर्ग के लोग आर्थिक तंगी से बेहाल है , इनमें से कुछ लोग अपना नाम बी.पी.एल. में जुड़वा कर अपना किसी प्रकार गुजारा कर रहें है यदि योजना आयोग की सिफारिश ज्यों की त्यों लागू हो जाती है तो इन पर पहाड़ टूट जायेगा .



7 टिप्पणियाँ:

ब्लॉ.ललित शर्मा 22 सितंबर 2011 को 12:25 am  

योजना आयोग का कहना है कि 20 रुपए में व्यक्ति को 2400 कैलोरी का भोजन मिल जाता है, जिससे वह भूखा नहीं मर सकता, पर नंगा जरुर रह सकता है, 20 रुपए कमाकर खाएगा तो पहनेगा क्या? नंगा निचोएगा क्या?
शर्म आनी चाहिए, गरीबों की आमदनी बढाने की बजाए, उन्हे गरीबी और अमीरी रेखा के कल्पित दायरों में बांध कर आंकड़ों में अमीर बनाने की कलाबाजी की जा रही है।
वैसे भी मोंटेक सिंह मल्टीनेशनल कम्पनियों के चहेते हैं

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 22 सितंबर 2011 को 12:33 am  

वाह! क्या बात हे...अब तो सब अमीर हैं

आशा 22 सितंबर 2011 को 7:01 am  

इस से अच्छा जोक पहले पढ़ने या सुनाने को नहीं मिला कि इतनी कम मुद्रा मैं कोइ अपना जीवन व्यापन कर सकता है |जिसने भी यह सलाह दी है उसे ही बाजार भेज देना चाहिए इतने पैसे दे कर |तभी उसकी समझ में आएगा आज बाजार कहाँ जा रहा है |
आशा

रेखा 22 सितंबर 2011 को 2:39 pm  

अच्छा है ....मंहगाई को तो कम नहीं कर सकते तो क्यों न गरीबों की संख्या को ही कम कर दिया जाय

PRAMOD KUMAR 22 सितंबर 2011 को 6:20 pm  

योजना आयोग की रिपोर्ट ने तो भारत के सभी भिखारियों को भी अमीरों की श्रेणी में ला दिया ..........!.........वाह कमाल की रिपोर्ट है.....!

Swarajya karun 22 सितंबर 2011 को 11:31 pm  

आपने एकदम सही मसला उठाया है. मेरा तो यह कहना है कि जिन लोगों ने गाँवों में २५ रूपए या २८ रूपए और शहरों में ३२ रूपए रोज कमाने वाले परिवारों को गरीब नहीं मानने की दलील दी है , उनसे कहा जाना चाहिए कि वे खुद इतने ही रूपए में अपने परिवार का गुज़ारा करके दिखाएँ .

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP