Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

ये वो नन्हें फूल हैं जो भगवान को लगते प्यारे....

>> 13 सितंबर, 2011

                    


" इनको किसी से बैर नहीं, इनके लिए कोई गैर नहीं "

 

जन्म के वक्त पपी का वजन 500 ग्राम से लेकर सात किलो तक हो सकता है. ऐसा नहीं है कि जन्म के वक्त उनका जो रंग है, वही हमेशा रहे. हो सकता है बाद में वह बदल जाए.

चाहे बच्चे ही क्यों न हों लेकिन हैं तो बाघ के. दहाड़ लगाने पर अच्छे अच्छों के पसीने छूट जाते हैं. एक किलो का बाघ का बच्चा बड़ा होकर 300 किलो तक का हो सकता है.
पैदाइश के वक्त आम तौर पर हाथी का वजह 105 किलो होता है. हाथी काले भी होते हैं, सफेद भी. लेकिन उनकी सबसे ज्यादा पूछ उनके दांतों की वजह से होती है.

  

बिल्लियां भले ही पालतू हों और खतरनाक न दिखें लेकिन उन्हें शेर की मौसी कहा जाता है. पैदा होने के बाद उन्हें पूरी तरह से विकास करने में करीब दो महीने लगते हैं.

सोचिए शेर के बच्चे जब छोटे हों तो एक टोकरी में चार बच्चों को भी रखा जा सकता है. तब उनका वजह भी सिर्फ एक किलो होता है लेकिन जब बड़े हो जाएं, तो 250 किलो तक के हो सकते हैं.
कोअला प्रजाति का यह बच्चा दिखने में पांडा से मिलता जुलता है लेकिन इसकी परवरिश कंगारुओं तरह होती है. लॉस एजेंलिस के जू में पैदा हुआ किरही छह महीने तक मां की थैली में रहा.
समुद्री ही सही, शेर तो ये भी हैं. जन्म के समय समुद्री शेर यानी सील का वजन आम तौर पर 10 किलो के आस पास होता है. कुछ सील मनुष्यों के दोस्त बन जाते हैं.
सफेद बर्फ पर लोटते ये बर्फीले भालू भले ही एक जैसे दिख रहे हों लेकिन नर भालू बड़ा होकर कोई 700 किलो का हो जाएगा, जबकि मादा भालू का वज़न उससे आधा ही रह जाएगा.
यंट पांडा जन्म के समय सिर्फ 100 या 200 ग्राम का होता है और तब कोई सोच भी नहीं सकता कि बड़ा होकर यह 150 किलोग्राम का बन सकता है. अमेरिकी जू में चहलकदमी करता एक पांडा.
कंगारू का बच्चा जन्म के बाद महीनों मां की थैली में रहता है. इस दौरान उसका विकास होता रहता है. करीब 235 दिन तक वहां रहने के बाद वह आखिरी बार मां की थैली को छोड़ता है.
शेर की सवारी करने के लिए शेर का बच्चा होना जरूरी है. लेकिन अगर आप बंदर हैं और आपका नाम गोल्डन लॉयन है, तो भी आप यह सवारी कर सकते हैं
फोटो - साभार डायचे वेले हिंदी

8 टिप्पणियाँ:

ब्लॉ.ललित शर्मा 14 सितंबर 2011 को 12:27 am  

ईश्वर ने बालपन सभी प्राणियों को दिया है...... अल्हड़पन मे सभी मौज लेते है.

ब्लॉ.ललित शर्मा 14 सितंबर 2011 को 12:27 am  

हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं...

प्रवीण पाण्डेय 14 सितंबर 2011 को 6:44 am  

बड़े ही मनमोहक चित्र लगाये हैं आपने।

manish 14 सितंबर 2011 को 8:47 pm  

******सुन्दर प्रस्तुति******

दर्शन लाल बवेजा 14 सितंबर 2011 को 9:52 pm  

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...वाह!

girish pankaj 16 सितंबर 2011 को 10:45 pm  

bahut pyara geet hai yah. amar rachanaa. badhai, is chayan k liye.

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP