Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

दिवाली में राम वन गमन मार्ग एवं हाईटेक पटाखें

>> 23 अक्तूबर, 2011


 
दीपावली के अवसर पर पटाखों के प्रदुषण की चिंता बहुत लोगों को रहती है . पिछली दिवाली में भी मैनें पर्यावरण रक्षा की अपील की थी , जिसका काफी असर हुआ था .  इस बार भी हम आपके लिए प्रदुषण मुक्त पटाखे ढूंढ़ कर लाये है . आप इन पटाखों का इस्तेमाल करें और घर के बच्चों को भी प्रेरित करें . इन पटाखों से बच्चों को दिवाली का पूरा आनंद तो मिलेगा ही साथ ही साथ पर्यावरण की भी रक्षा होगी . तो अब शुरू हो जाइये और अपने मनपसंद पटाखे पर क्लिक कीजिये . कैसा लगा यह बताना ना भूलें .

(3)   अनार




इस बार दिवाली ग्रीटिंग कार्ड में हमने भगवान श्री रामचंद्र जी के वन गमन मार्ग को रेखांकित करने वाला नक्शा प्रकाशित किया है . यह नक्शा छत्तीसगढ़ में राम वन मार्ग शोध दल ने काफी मेहनत के बाद  जारी किया है .




10 टिप्पणियाँ:

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ 23 अक्तूबर 2011 को 11:49 pm  

आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा दिनांक 24-11-2011 को सोमवासरीय चर्चा मंच पर भी होगी। सूचनार्थ

संगीता पुरी 23 अक्तूबर 2011 को 11:55 pm  

हमलोग दीपावली में पिछले कई वर्षों से पटाखों का इस्‍तेमाल नहीं करते .. सपरिवार आपको दीपावली की शुभकामनाएं !!

डॉ.मीनाक्षी स्वामी 24 अक्तूबर 2011 को 1:51 am  

राम वनगमन मार्ग बहुत सुंदर परिकल्पना है। आभार ।

Rahul Singh 24 अक्तूबर 2011 को 7:24 am  

धूम-धड़ाकेदार रंगीन पटाखों के लिए शुभकामनाओं सहित धन्‍यवाद.

आशा 24 अक्तूबर 2011 को 7:40 am  

दीपावली पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
आशा

संगीता स्वरुप ( गीत ) 24 अक्तूबर 2011 को 10:10 am  

प्रदुषण पर आपकी कविता अभी पढ़ी ... बहुत अच्छी प्रस्तुति है .. नक्शा बहुत अच्छी जानकारी को सहेजे हुए है ..

दीपावली की शुभकामनाएँ

girish pankaj 24 अक्तूबर 2011 को 11:39 am  

दीपावली की शुभकामनाएं

मनोज कुमार 24 अक्तूबर 2011 को 12:08 pm  

आपने तो बड़ा अच्छा लिंक दिया है। खूब मज़ा आया यह खेल खेलकर!!
दीपावली की शुभकामनाएं।

ब्लॉ.ललित शर्मा 2 नवंबर 2011 को 8:27 am  

दीवाली की शुभकामनाएं,

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP