Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

रुद्रप्रयाग : अलकनंदा तथा मंदाकिनी नदियों का संगमस्थल

>> 29 नवंबर, 2011





रुद्रप्रयाग :  अलकनंदा तथा मंदाकिनी नदियों का संगमस्थल

 इन दिनों कुछ मित्रों के साथ उत्तराखंड की राजनैतिक यात्रा पर हूँ . यह भारत की देवभूमि है . कदम कदम पर यहाँ दर्शनीय स्थल है .गढ़वाल अंचल के रुद्रप्रयाग में हमारा केम्प है .यहाँ पर मन्दाकिनी नदी अलकनंदा नदी में मिलती है . दोनों नदियाँ पहाड़ को चीरती हुई यहाँ पर मिलती है . यह नदी  आगे भागीरथी नदी से मिलकर गंगा नदी कहलाती है .गंगा नदी पर आगे लिखने का अवसर ढूंढूंगा .आज तो रुद्रप्रयाग पर ध्यान आकर्षित कर कहा हूँ .रुद्रप्रयाग उत्तरांचल राज्य के रुद्रप्रयाग जिले का मुख्यालय है ,यह नगर पालिका है.रुद्रप्रयाग अलकनंदा तथा मंदाकिनी नदियों का संगमस्थल है . यहाँ से अलकनंदा देवप्रयाग में जाकर भागीरथी से मिलती है तथा गंगा नदी का रूप ले लेती है .प्रसिद्ध धर्मस्थल केदारनाथ धाम रुद्रप्रयाग से मात्र 86 की.मी. दूर है . भगवान शिव के नाम पर रूद्रप्रयाग का नामकरण हुआ है. रूद्रप्रयाग श्रीनगर (गढ़वाल) से 34 किलोमीटर ऊपर स्थित है .

मंदाकिनी और अलखनंदा नदियों के संगम का नजारा बहुत ही अदभूत है .यह बहुत ही रमणीय स्थल है . इसकी सुन्दरता का वर्णन शब्दों में कर पाना संभव भी नहीं है . दोनों नदियाँ बहुत उचाई से बहते हुए जब रुद्रप्रयाग में मिलती है तो दोनों के मिलने से मधुर ध्वनी का गुंजायमान होता है . ऐसा माना जाता है कि यहां नारद मुनि ने भगवान शिव की उपासना की थी तब नारद जी को आर्शीवाद देने के लिए ही भगवान शिव ने रौद्र रूप में अवतार लिया था . रौद्र शब्द कालांतर में रूद्र हो गया
इन दिनों यहाँ कड़ाके की ठण्ड  है ,दिन तो जैसे तैसे कट जाता है लेकिन रात का तापमान काफी गिर कर १२ से. हो जाता है. सुबह  की ठण्ड का सामना  छत्तीसगढ़ जैसे गर्म इलाके के लोग  कैसे कर पाते होंगे आप अनुमान लगा सकते है .  

3 टिप्पणियाँ:

PRAMOD KUMAR 1 दिसंबर 2011 को 5:57 pm  

रूद्रप्रयाग का बहुत ही मनमोहक चित्रण, अत्यंत सुंदर एवं रमणीय प्राकृतिक दृश्य.........!

ब्लॉ.ललित शर्मा 1 दिसंबर 2011 को 10:15 pm  

बढिया भ्रमण चल रहा है। अगली बार हम भी साथ होगें।

आशा 2 दिसंबर 2011 को 10:27 am  

अच्छा यात्रा वर्णन|
आशा

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP