इसके द्वारा संचालित Blogger.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

भारत के आलावा दुनिया भर में बिकेगा आईपैड-2

>> 25 मार्च, 2011




 कंप्यूटर और सॉफ्टवेयर क्षेत्र की दिग्गज कंपनी एप्पल इसी हफ्ते दुनिया भर में आईपैड-2 लॉन्च करने जा रही है. लेकिन भारत में आईपैड-2 लेने की चाहत रखने वालों को अभी इंतजार करना पड़ेगा. कंपनी भारत में आईपैड-2 नहीं उतार रही है.

वाई फाई कनेक्टिविटी की सुविधा से लैस आईपैड-2 शुक्रवार से ऑस्ट्रेलिया, जर्मनी, ऑस्ट्रिया, बेल्जियम, ग्रीस, हंगरी, आयरलैंड, आइसलैंड, आयरलैंड, इटली, लक्जमबर्ग, फ्रांस, फिनलैंड, हॉलैंड, न्यूजीलैंड, नॉर्वे, पोलैंड, पुर्तगाल, स्पेन, स्वीडन और ब्रिटेन समेत कई अन्य देशों में बिकने लगेगा. लेकिन कंपनी भारत में शुक्रवार को आईपैड-2 लॉन्च नहीं कर रही है. पहले भारत में भी 25 मार्च को आईपैड उतारने की तैयारी थी. बाद में भारत को लिस्ट से निकाल दिया गया. एप्पल ने इसका कारण नहीं बताया है. 

ऐसा अंदेशा लगाया जा रहा था कि एप्पल आईपैड-2 के लॉन्च को कुछ समय के लिए रोक सकता है. दरअसल कोरियाई कंपनी सैमसंग इस वक्त एप्पल को कड़ी टक्कर दे रही है. सैमसंग को एप्पल का सबसे बड़ा प्रतिद्वंदी माना जाने लगा है. सैमसंग ने भी दो नए टेबलेट उतारने का एलान किया है. ये गूगल के हनीकॉम्ब ऑपरेटिंग सिस्टम से लैस होंगे. कीमत आईपैड-2 के आस पास ही है. लेकिन सैमसंग के टेबलेट ज्यादा तेज प्रोसेसर के साथ हैं, वे आईपैड-2 से ज्यादा पतले भी हैं, कैमरा और स्क्रीन की क्वालिटी भी आईपैड-2 से बेहतर है. सैमसंग के एलान के बाद माना जाने लगा कि एप्पल आईपैड-2 में कुछ बदलाव करेगा और फिर देर से इसे लॉन्च किया जाएगा.

वहीं ताइवान की कंपनी एचटीसी ने भी अपना टैबलेट उतार दिया है. यह कई मामलों में सैमसंग और आईपैड से अलग है. एचटीसी टैबलेट में 3डी वीडियो रिकॉर्डिंग की जा सकती है. HTC इवो व्यू 4G में डिजिटल पैन भी है, इसकी मदद से यूजर्स अपनी हैंडराइटिंग में लिख और चित्र या ग्राफ बना सकते हैं.

वहीं ब्लैकबेरी बनाने वाली कनाडाई कंपनी रिम भी 19 अप्रैल को अपना टैबलेट उतारने जा रही है. ब्लैक एंड व्हाइट कंप्यूटर से कलर पीसी, कलर पीसी से लैपटॉप, अब लैपटॉप से टैबलेट और स्मार्ट फोन. साफ है तकनीक और कंप्यूटर बड़ी तेजी से बदल रहा है. इस दौड़ में माइक्रोसॉफ्ट जैसी दिग्गज कंपनी विंडोज के भीतर बंद होकर हांफती सी दिख रही है. DW NEWS



Read more...

वर्ल्ड कप क्रिकेट 2011 : सचिन ने पूरे किए 18000 रन

>> 24 मार्च, 2011



 ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वार्टर फाइनल मैच में सचिन तेंदुलकर ने जैसे ही अपना 45वां रन पूरा किया, वनडे क्रिकेट में उनके नाम 18000 रन हो गए. कहने की जरूरत नहीं कि ऐसा करने वाले वह दुनिया के इकलौते क्रिकेटर हैं.


तेंडुलकर का यह 451वां मैच था। उन्होंने सबसे ज्यादा रन आस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाए हैं। मास्टर ब्लास्टर ने दुनिया की नंबर एक टीम के खिलाफ 68 मैच में 3000 से भी ज्यादा रन बनाए हैं। उन्होंने पारी के 14वें ओवर में ब्रेट ली की गेंद पर एक रन लेकर 18,000वां रन पूरा किया।



तेंडुलकर के नाम पर अब 45.13 की औसत से 18008 रन दर्ज हैं जिसमें 48 सेंचुरी और 94 हाफ सेंचुरी शामिल हैं। सचिन ने श्रीलंका (2965), पाकिस्तान (2389) और साउथ अफ्रीका (2001) के खिलाफ भी वनडे में 2000 से ज्यादा रन बनाए हैं। वर्ल्ड कप में दो हजार से ज्यादा रन (2175) बनाने वाले दुनिया के वह अकेले बैट्समैन हैं। तेंडुलकर को अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में शतकों का शतक पूरा करने के लिए अब केवल एक सेंचुरी की दरकार है। उन्होंने टेस्ट मैचों में 51 सेंचुरी लगाई हैं।



सचिन ने पिछले साल साउथ अफ्रीका के खिलाफ ग्वालियर में नाबाद 200 रन बनाकर वनडे का पहला दोहरा शतक जड़ा था।

Read more...

होली पर्व की हार्दिक बधाई

>> 20 मार्च, 2011

  

                                                       




आप  सबको  होली पर्व  की  हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं  !!!




               फोटो साभार गुगल

Read more...

मुख्यमंत्री ने किया भण्डार गृह निगम की वेबसाईट का लोकार्पण

>> 15 मार्च, 2011

मुख्यमंत्री डॉ.  रमन सिंह ने आज यहां विधानसभा स्थित अपने कार्यालय कक्ष में छत्तीसगढ़ राज्य भण्डार गृह निगम की नव-निर्मित वेबसाईट का लोकार्पण किया। निगम अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने मुख्यमंत्री को वेबसाईट की विशेषताओं के बारे में बताया। गृह मंत्री श्री ननकीराम कंवर, संसदीय कार्य मंत्री श्री बृजमोहन अग्रवाल और पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री रामविचार नेताम सहित भण्डार गृह निगम मुख्यालय के अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 उल्लेखनीय है कि राज्य निर्माण के बाद निगम ने पहली बार अपनी गतिविधियों के प्रचार-प्रसार के लिए वेबसाईट की शुरूआत की है।कोई भी व्यक्ति कहीं से भी इन्टरनेट पर वेबसाईट डब्ल्यू डब्ल्यू डब्ल्यू डॉट सी जी एस डब्ल्यू सी डॉट सी जी डॉट जी ओ व्ही डॉट इन(www.cgswc.cg.gov.in) पर क्लिक करके इस वेबसाईट का अवलोकन कर सकता है। मुख्यमंत्री ने भण्डार गृह निगम में सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित इस महत्वपूर्ण संचार माध्यम के उपयोग पर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि अनाजों के सुरक्षित भण्डारण में भण्डार गृह निगम की महत्वपूर्ण भूमिका है। उन्होंने निगम अध्यक्ष श्री अशोक बजाज की इस पहल को निगम के काम-काज में पारदर्शिता की दृष्टि से अत्यंत महत्वपूर्ण बताया और उम्मीद जताई कि इससे आम जनता को भण्डार गृह निगम के कार्यों की पूरी जानकारी आसानी से ऑन लाईन मिल सकेगी। उन्होंने वेबसाईट के शुभारंभ पर निगम अध्यक्ष श्री बजाज सहित निगम के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को बधाई दी।

निगम अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने मुख्यमंत्री को बताया कि वेबसाईट में निगम के सेटअप, अधिकारियों की सूची और राज्य में स्थित निगम की समस्त शाखाओं की सूची आम जनता की जानकारी के लिए प्रदर्शित कर दी गयी है। इसके अलावा निगम की नियमावली और संबंधित सभी अधिनियमों के साथ-साथ निगम के बजट, भण्डार शुल्क और भण्डारण शर्तों की जानकारी, गोदाम निर्माण संबंधी जानकारी निगम द्वारा संचालित गोदामों के फोटोग्राफ्स तथा वार्षिक प्रतिवेदन सहित संचालक मंडल तथा कार्यकारिणी सदस्यों की सूची भी इसमें शामिल की गयी है।



Read more...

टच खत्म, टचलेस का जमाना

>> 14 मार्च, 2011

 डायचे वेले हिंदी ने आज एक नई तकनीक की जानकारी दी है जो ब्लॉग प्रेमियों के लिए खुशखबरी से कम नहीं है.  संवाददाता श्री विवेक कुमार ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि यह कल्पना से भी थोड़ी आगे की बात है. हालांकि यह कल्पना नहीं, सच है. अब सब मशीनें बिना छुए ही काम करेंगी. बिल्कुल सही. आपका कंप्यूटर, मोबाइल फोन, वॉशिंग मशीन, टीवी...सब कुछ बिना छुए चलेगा.

आपके सामने कंप्यूटर पर कई वेबसाइट्स खुली हैं. आपको हर वेबसाइट पर बार बार जाना पड़ता है. लेकिन ऐसा करने के लिए अब आपको बार बार क्लिक करने की जरूरत नहीं. बस जिस वेबसाइट का पेज खोलना है, उसकी ओर देखिए और पेज खुल जाएगा. क्योंकि यह कंप्यूटर आंखों से चलता है. स्वीडन की कंपनी टॉबी टेक्नॉलजी के निकोलस पेट्रोसा इस कंप्यूटर को लेकर सेबिट आए हैं. वह बताते हैं, "हमारी टेक्नॉलजी इन्फ्रारेड इल्यूमिनेटर पर निर्भर है जो चेहरे पर इन्फ्रारेड तरंगें छोड़ती है. इससे यूजर की तस्वीर बन जाती है. कंप्यूटर आंख को पहचानता है और स्क्रीन पर आपकी नजर कहां है इसका पता लगाता है. तब आप इंटरेक्शन के जरिए कंप्यूटर पर काम कर सकते हैं."

 इस वक्त बाजार में टच स्क्रीन तकनीक की धूम है. स्क्रीन को उंगली से छूने भर से काम करना अद्भुत अनुभव है. लेकिन यह तकनीक पुरानी हो गई है. अब वक्त है टचलेस तकनीक का. यानी स्क्रीन को छुए बिना ही काम होगा. यूं समझ लीजिए की आप किसी जादूगर की तरह अपने फोन की स्क्रीन पर उंगली घुमाएंगे और काम हो जाएगा. इसके लिए विशेष सेंसरों का इस्तेमाल होता है. फ्रांस की कंपनी फोरगैलनोटेक के सेल्स मैनेजर विलियम बेकेरीन बताते हैं, "हमने नए थ्रीडी स्मार्टफोन और स्क्रीन के सेंसरों में नया आयाम जोड़ा है. ये सेंसर स्क्रीन के ऊपर से ही उंगली को पहचान जाते हैं. मतलब फोन उंगली की स्थिति का सही सही पता लगा लेगा. थ्रीडी फोन के आने से और मौजूदा सिस्टम में भी फोन अपने आप ये बात समझ जाएगा कि उंगली फोन को या किसी भी स्क्रीन को कहां छूना चाहती है."

लेकिन बात यहीं नहीं थमती. आप स्क्रीन के अंदर तक जा सकते हैं. आपकी उंगली विडियो के अंदर किरदारों के भीतर तक जा सकती है. और फोन के मामले में तो यह बहुत जल्दी हो जाएगा. एलजी कंपनी अपना थ्रीडी फोन बाजार में उतार रही है. कंपनी के डोमिनिक प्रेसोस्की बताते हैं, "यह सामान्य स्मार्ट फोन जैसा लगता है जिसका ग्लास फ्रंट वैसा ही है. इसमें बटन हैं. इसमें जो चीज बाकी फोन से अलग है वह इसके पीछे लगा डबल लेंस है. आप इसमें थ्रीडी कंटेंट देख सकते हैं. आप इससे थ्रीडी फोटो विडियो बना पाएंगे. और सामान्य फोन का काम तो इससे ले ही पाएंगे. और इसके लिए किसी चश्मे की भी जरूरत नहीं है .

इस तकनीक का एक अद्भुत आयाम पढ़ने के मामले में सामने आ रहा है. जर्मनी के रिसर्च सेंटर फॉर आर्टिफिशल इंटेलिजेंस ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाया है जो आपको पढ़ने में मदद करेगा. होले क्रिस्टानियन इस बारे में सही से समझा सकते हैं, "हमारे पास एक आईट्रैकर टेक्नॉलाजी है जिसके जरिए कंप्यूटर आंख की गति और दिशा का पता लगाता है. मसलन अगर आप पढ़ते वक्त किसी शब्द पर ज्यादा देर अटक जाते हैं तो कंप्यूटर समझ जाएगा कि इस शब्द में आपको दिक्कत है. तब फौरन वह उस शब्द का मतलब और उससे जुड़ी सारी जानकारी आपके सामने पेश कर देगा."

अब जब सारा काम बिना छुए ही हो रहा है तो क्या कंप्यूटर टाइपिंग के लिए उतना बड़ा डिब्बा सामने रखना सही होगा? नई तकनीक कहती है... नहीं. दक्षिण कोरिया की एक कंपनी ने वर्चुअल की बोर्ड बनाया है. मतलब कीबोर्ड जैसी कोई चीज है ही नहीं. बस एक छोटी सी डिब्बी है. डिब्बी निकाली, इसे तार से जोड़ा और आपने सामने मेज पर कुछ तरंगें बिछ जाएंगी जो कीबोर्ड की शक्ल में होंगी. कंपनी के अधिकारी क्रिस इसे बेहतर समझा पाएंगे, "यह एक ब्लू टुथ प्रॉडक्ट है. इसमें कीबोर्ड और माउस एक ही डिवाइस में है. इस डिवाइस के नीचे से इन्फ्रारेड लाइट निकलती है जिसे हम आंख से नहीं देख सकते. लेकिन कैमरा उसे देख लेता है. इसलिए जब आप किसी की को दबाते हैं तो लाइट की तरंग टूट जाती है. कैमर उस टूट को पहचान लेता है और उसे डेटा में तबदील कर देता है."

जब बिना छुए ही सब काम हो जाएगा तो हमारी जो ऊर्जा बचेगी, उसका क्या करेंगे? फिर तो दुनिया में गति ही नहीं रहेगी. आईबीएम एक इंजीनियर ने इस सवाल का बड़ा अच्छा जवाब दिया कि इंसान को समझाइए कि इस ऊर्जा का इस्तेमाल प्यार बांटने में लगाए.

Read more...

खतरनाक है अगरबत्ती की खुशबू

>> 13 मार्च, 2011


चंदन, केवड़ा, गुलाब,चंपा,चमेली औऱ तमाम दूसरी तरह के खुशबू अपने धुएं में समेटे जलने वाली अगरबत्ती खतरनाक भी हो सकती है. थाईलैंड के स्वास्थ्य मंत्रालय ने तो बकायदा इसे जलाने के नए नियम कायदे बना दिए हैं.

भारत के मंदिरों की तरह ही थाइलैंड में भी देवी देवताओं को खुश करने के लिए अगरबत्ती जलाने का रिवाज है. यहां के बौद्ध मंदिरों में खूब अगरबत्ती जलाई जाती है. अगरबत्ती का धुआं माहौल में खुशबू और प्रार्थनाओं में आध्यात्मिक भावना जगाती है पर ये खतरनाक भी हो सकता है.

 आमतौर पर अगरबत्तियों को बनाने का काम छोटे स्तर पर और घरेलू उद्योग के रूप में होता है. इनमें कई तरह के तेल, रसायन, लकड़ी और दूसरी चीजों का इस्तेमाल किया जाता है. थाईलैंड के स्वास्थ्य मंत्री जुरीन लक्सनाविजित की तरफ से जारी बयान में कहा गया है अगरबत्तियों में बेंजीन, ब्यूटाडाइन और बेन्जो पाइरेन की खतरनाक मात्रा होती है. स्वास्थ्य मंत्री के मुताबिक इन रसायनों की वजह से ल्यूकेमिया और फेफड़ों, त्वचा,ब्लाडर का कैंसर हो सकता है.

मंत्रालय ने मंदिरों को ऐसी जगहों पर जहां से हवा के गुजरने का पुख्ता इंतजाम न हो अगरबत्तियों को जलाना बंद करने के निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही मंदिर कर्मचारियों को अगरबत्तियां जलाने के बाद अपने हाथों और चेहरे को अच्छी तरह से धोने के लिए कहा गया है. इसके साथ
ही मंदिर कर्मचारियों का हर साल स्वास्थ्य परीक्षण कराने की भी बात कही गई.

हम सुगंधों को जितना जानते हैं, उनसे किसी खतरे का गुमान नहीं होता। इत्र-फुलेल और विदेशी सेंटों के रूप में मिलने वाली सुगंधों से लोगों की सुरुचि का ही अहसास होता है। पर इधर सुगंधों से खतरे की बू आने लगी है।


ये सुगंधें सिर्फ इत्र या सेंट की शीशियों में नहीं हैं, ये हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में काम आने वाली तमाम चीजों में समाई हैं। जैसे कि डियो, कपड़े धोने के साबुन, एयर फ्रेशनर, मॉस्किटो रिपलेंट या खुशबूदार पेन-पेंसिल-कागज़ वगैरह। कुछ अरसा पहले तक घरेलू उपयोग की इन चीज़ों में अलग से कोई सुगंध नहीं डाली जाती थी। पर अब कुछ डिटर्जन्ट, साबुन वगैरह में भी अपनी खास सुगंध होती है। यह मनमोहक महक ज़ाहिर है, उन उत्पादों को इस्तेमाल करने वालों को अच्छी लगती है, जब तक कि उन्हें उससे कोई एलर्जी न हो। पर साइंटिस्टों ने ऐसी सुगंधों को खतरनाक पाया है। यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन के विज्ञानियों ने एक व्यापक शोध में पर्सनल केयर प्रॉडक्ट्स, एयर फ्रेशनर्स और लॉन्ड्री प्रॉडक्ट्स के सुगंधित बनाए गए विभिन्न ब्रैंड्स को विषैला और इंसानों की सेहत के लिए खतरनाक माना है। खतरे की वजह इन प्रॉडक्ट्स में सुगंध पैदा करने के लिए इनमें मिलाए गए वे रसायन हैं, जो पहले नहीं इस्तेमाल होते थे- एसिटोन, लाइमोनेन, एसिटिल्डिहाइड और 1,4-डायऑक्सेन आदि जैसे रसायन खुशबू पैदा करते हैं।


हालांकि शोध में इन रसायनों की वजह से सेहत पर पड़ने वाले असर का अध्ययन नहीं किया गया है, पर कुछ दूसरी रिसर्च से पता लगता है कि खुशबूदार उत्पादों का इस्तेमाल करने वाले बहुत से लोग कुछ विशेष किस्म की स्वास्थ्य संबंधी दिक्कतों की शिकायत करने लगे हैं। इन परेशानियों की वजह जानना मुश्किल नहीं है। साबुन, डिटर्जन्ट या मच्छर भगाने वाले लिक्विड में पहले से ही तमाम केमिकल होते हैं और उनके खुशबूरहित ब्रैंड्स के इस्तेमाल से भी एलर्जी से लेकर दमा, कैंसर जैसी बीमारियों और न्यूरोलॉजिकल व जिनेटिक विकृतियों तक की आशंका होती है।


जब खुशबू पैदा करने के लिए इन उत्पादों में प्राकृतिक सुगंधों की जगह दूसरे केमिकल मिलाए जाते हैं, तो बीमारियों का खतरा भी और बढ़ जाता है। ऐसे में साइंटिस्टों की सलाह है कि किसी खुशबूदार प्रॉडक्ट की जगह अपनी स्वाभाविक गंध वाले उत्पाद ही खरीदें और जहां तक कमरे को महकाने वाले एयर फ्रेशनर की बात है, तो उसकी खुशबू के मुकाबले कमरे में आती स्वच्छ हवा ज़्यादा बेहतर है, क्योंकि उससे सेहत की सुगंध आती है।


अगरबत्ती हो चाहे कोई भी इत्र उसकी खुशबू प्राणलेवा है .मुझे  स्वयं इससे भारी  एलर्जी है .आप भी इससे बचें तथा दूसरों को भी इससे बचने की सलाह दें .DW NEWS

Read more...

जापान में सुनामी: हर तरफ़ तबाही का मंज़र

>> 12 मार्च, 2011





        जापान के इतिहास में सबसे भयंकर भूकंप और इसके बाद आए सूनामी ने देश के एक बड़े हिस्सा का नक्शा बदल कर रख दिया. 10 मीटर विशाल लहरों ने सैकड़ों लोगों का जीवन लील लिया और रास्ते में जो कुछ भी आया, उसे नष्ट कर दिया .
        हजारों कारें, जहाजें, ट्रेनें, बसें और इमारतें पानी के आगे रेत साबित हुईं और सूनामी की लहरों में बह गईं. स्विट्जरलैंड के जेनेवा शहर में स्थित रेड क्रॉस का कहना है कि सूनामी की लहरें इतनी ऊंची थीं, जितनी पहले कभी नहीं दिखीं. इसके बाद पूरे एशिया प्रशांत क्षेत्र में सूनामी की चेतावनी जारी कर दी गई.

वेबसाइटों पर मदद की गुहार ....

जापान में आए भूकंप और सुनामी में सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट काफ़ी कारगर साबित हो रहे हैं.

शुक्रवार को गूगल वेबसाइट ने दिनभर एक चेतावनी संदेश अपने मुखपृष्ठ पर रखा और अब राहत और बचाव में भी इन वेबसाइटों से मदद मिल रही है.बीबीसी के मार्क लोबेल ने इस संकट की घड़ी में एक ऐसी ही वेबसाइट पर नज़र डाली तो पाया कि लोग इन पर मदद की गुहार लगा रहे हैं क्योंकि आमतौर पर चुस्त टेलीफ़ोन सेवाएं ठप्प पड़ गई हैं.जापान के मुख्य व्यावसायिक टीवी चैनलों में से एक की लाइव स्ट्रीमिंग वेबसाइट पर एक चैटबोर्ड खुला हुआ है जिसपर हर दूसरे सेकंड में कोई न कोई संदेश आ रहा है.जापान में शनिवार की सुबह के तीन बजे हैं जब एक संदेश आता है: “कृपया मेरी मदद करो. कृपया आपात सेवाओं को ख़बर करो. मेरा भाई फंसा हुआ है. 421-2 कोयोबाई इज़ूमिकू, सेनदाइशा.”

मदद की ये करूण गुहार स्क्रीन पर लगभग एक मिनट तक रहती है. नए संदेश जल्द ही उसे पीछे ढकेल देते हैं.लेकिन ठीक सात मिनट बात एक और संदेश आता है: “421-2 में रहने वाले व्यक्ति को सुरक्षित निकाल लिया गया है.”तभी एक और संदेश आता है जिसमें कोई लोगों से बिजली की तारों को नहीं छूने की सलाह देता है और फिर कोई दूसरा सुनामी से प्रभावित लोगों के लिए दुआ करता है.

और फिर एक और संदेश: “मेरे दोस्त की पत्नी और बच्चा वाकाबायाशिकू में हैं और हम उनसे संपर्क नहीं कर पा रहे. कृपया मुझे उस इलाके के बारे में कोई ख़बर दें.”

और पांच मिनट बाद एक और संदेश आता है: “मेरी मां और मेरा कुत्ता चार बजे तक घर में थे. पता है नंबर 2 मिनातोमाची, इशीमाकिशी, किबा. तब ग्राउंड फ़्लोर में पानी भर चुका था और अब मैं उनसे बिल्कुल ही संपर्क नहीं कर पा रहा हूं. कृप्या उन्हें बचाओ.”

इसके पहले जब पानी का स्तर बढ़ रहा था तब आ रहे संदेशों में भी लोगों की आशंकाएं थीं, डर था और सोशल मीडिया एकमात्र साधन था अपना संदेश बाहर पहुंचाने का.

लेकिन इस संकट के विकराल होते रूप के साथ अब संदेश बाहर पहुंचाना जितनी बड़ी चुनौती है उतनी बड़ी ही चुनौती इस बात की है कि कोई उसे पढ़ सके क्योंकि हर पल संदेश बढ़ते जा रहे हैं. हर दूसरे सेकंड कोई न कोई संदेश आ ही रहा है.
गूगल से प्राप्त तस्वीरें .....

देखिये   अखबार .........


हिंदी दैनिक "  नवभारत " रायपुर का मुखपृष्ठ दिनांक 12/03/2011
हिंदी दैनिक "  हरिभूमि " रायपुर का मुखपृष्ठ दिनांक 12/03/2011



इस भीषण त्रासदी के शिकार सभी जापानी भाइयों-बहनों  के प्रति गहरी संवेदना प्रगट करते हुए प्रार्थना  करता हूँ कि  ईश्वर उनके परिजनों को इस प्रलय-बेला  से उबरने की शक्ति दे . 

Read more...

भा.ज.पा.सहकारिता प्रकोष्ठ का जंतर-मंतर नई दिल्ली में प्रदर्शन एवं राष्ट्रपति को ज्ञापन

>> 11 मार्च, 2011





भारतीय जनता पार्टी सहकारिता प्रकोष्ठ ने राष्ट्रपति महामहिम श्रीमती प्रतिभा पाटिल से दिनांक 07 मार्च 2011 को  भेंट कर बहुराज्यीय  सहकारी समिति अधिनियम संशोधन विधेयक 2010 एवं प्रत्यक्ष कर संहिता विधेयक 2010 को वापस लेने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा । प्रतिनिधिमंडल में सांसद श्रीमती सुमित्रा महाजन, प्रकोष्ट के राष्ट्रीय प्रभारी श्री संतोष गंगवार, प्रकोष्ट के राष्ट्रीय संयोजक श्री धनंजय कुमार सिंह, सांसद श्री ए.टी. नाना पाटिल, सांसद श्री हुकुमनारायण देव सिंह, सह-संयोजक श्री सुनील गुप्ता, श्री अशोक बजाज, श्रीमती वर्षा मांडुलकर एवं श्री अशोक दबाज  नई दिल्ली शामिल थे।
 
राष्ट्रपति से मिलने से  पूर्व भा.ज.पा.सहकारिता प्रकोष्ठ के आव्हान पर देश भर से पंहुचें सहकारी कार्यकर्ताओं  ने    प्रत्यक्ष कर संहिता एवं बहुराज्यीय सहकारी अधिनियम संशोधन विधेयक के विरोध में  जंतर मंतर नई दिल्ली में प्रदर्शन किया।बहुराज्य सहकारी सोसाइटी (संशोधन) विधेयक-2010  में आमसभा के पारित नियमों को केंद्रीय रजिस्ट्रार  को संशोधित करने का अधिकार दिया जा रहा है, जो कि प्रजातन्त्र की मूल भावना के खिलाफ  है। सहकारिता जीवन पद्धति है एवं देश की बुनियाद सहकारिता है। केंद्र सरकार सहकारिता को कुचलने का प्रयास कर रही है। सरकार की सहकारी विरोधी  नीति के चलते सहकारी समितियों एवं संस्थाओं की आर्थिक सेहत पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। प्रदर्शन में  श्री  धनंजय कुमार सिंह, सांसद श्रीमती  सुमित्रा महाजन, राज्यसभा के सदस्य श्री नंदकुमार साय, श्री गोपाल व्यास,  श्री श्रीमती अनुसुईया उइके, प्रकोष्ठ के राष्ट्रीय प्रभारी  श्री संतोष गंगवार, पूर्व केंद्रीय मंत्री भावना बेन चिखलिया, सह संयोजक द्वय श्री सुनील गुप्ता, श्रीमती वर्षा  माडगुलकर, प्रदेश अध्यक्ष एवं राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज, उपाध्यक्ष  श्री राधाकृष्ण गुप्ता, श्री लखनलाल साहू, जिला सहकारी बैंक बिलासपुर के अध्यक्ष  श्री देवेंद्र पांडेय, दुर्ग के  श्री प्रीतपाल बेलचंदन, अंबिकापुर से  श्री राजाराम भगत,  श्री प्रवीण चंद्राकर, राजनांदगांव के  श्री शशिकांत द्विवेदी  के अलावा  छत्तीसगढ़ के लगभग 650 प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया ।







Read more...

महाशिवरात्रि पर्व एवं राजिम अर्ध्दकुंभ 2011 के समापन की झलकियां

>> 04 मार्च, 2011

महाशिवरात्रि पर्व एवं राजिम अर्ध्दकुंभ 2011 के समापन की झलकियां

ग्राम केंद्री में पूजा अर्चना
ग्राम केंद्री के मंच में अशोक बजाज के साथ श्रीराम सिन्हा ,पोखन साहू एवं इलेक्ट्रानिक मिडिया के राजेश शुक्ला .

ग्राम केंद्री में अशोक बजाज का स्वागत करते हुए नेतराम साहू

ग्राम केंद्री ,बेन्द्री एवं सिंगारभांठा के सेंटर में स्थित नागेश्वर महादेव 


राजिम अर्द्ध कुंभ के समापन समारोह में पहुंचें  महामहिम राज्यपाल  श्री शेखर दत्त


राजिम अर्द्ध कुंभ के समापन समारोह में पहुंचें  मूर्धन्य साधू-संत

राजिम अर्द्ध कुंभ के समापन समारोह में चर्चा करते हुए  महामहिम राज्यपाल  श्री शेखर दत्त एवं श्री बृजमोहन अग्रवाल
राजिम अर्द्ध कुंभ के समापन समारोह में  पुस्तक का विमोचन
राजिम अर्द्ध कुंभ के समापन समारोह में  एक सी.डी.का विमोचन
राजिम अर्द्ध कुंभ के समापन समारोह में  उपस्थित जन-समुदाय को संबोधित करते हुए श्री अशोक बजाज
राजिम अर्द्ध कुंभ के समापन समारोह में  उपस्थित जन-समुदाय को संबोधित करते हुए श्री अशोक बजाज
राजिम अर्द्ध कुंभ की सफलता  से गदगद साधु-संत
समापन के बाद गूँजें साधु-संतों के  ठहाके
समापन मंच में (ऊपर )श्री राजीव लोचन की आरती ,(नीचे  ) मंच में बैठे अतिथि गण     
छत्तीसगढ़ यादव समाज की वार्षिक आम-सभा
छत्तीसगढ़ यादव समाज की वार्षिक आम-सभा
छत्तीसगढ़ यादव समाज की वार्षिक आम-सभा
छत्तीसगढ़ यादव समाज की वार्षिक आम-सभा

Read more...

महाशिवरात्रि का पर्व

>> 02 मार्च, 2011

  आज महाशिवरात्रि का पावन पर्व है , हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। यह भगवान शिव का प्रमुख पर्व है। फाल्गुन कृष्ण चतुर्दशी को शिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। माना जाता है कि सृष्टि के प्रारंभ में इसी दिन मध्यरात्रि भगवान् शंकर का ब्रह्मा से रुद्र के रूप में अवतरण हुआ था। प्रलय की वेला में इसी दिन प्रदोष के समय भगवान शिव तांडव करते हुए ब्रह्मांड को तीसरे नेत्र की ज्वाला से समाप्त कर देते हैं। इसीलिए इसे महाशिवरात्रि अथवा कालरात्रि कहा गया। तीनों भुवनों की अपार सुंदरी तथा शीलवती गौरी को अर्धांगिनी बनाने वाले शिव प्रेतों व पिशाचों से घिरे रहते हैं। उनका रूप बड़ा अजीव है। शरीर पर मसानों की भस्म, गले में सर्पों का हार, कंठ में विष, जटाओं में जगत-तारिणी पावन गंगा तथा माथे में प्रलयंकर ज्वाला है। बैल को वाहन के रूप में स्वीकार करने वाले शिव अमंगल रूप होने पर भी भक्तों का मंगल करते हैं और श्री-संपत्ति प्रदान करते हैं।
महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर आप सबको बहुतबहुत बधाई एवं शुभकामनाएं ! भगवान शिव आपकी हर इच्छा की पूर्ति करें ।


सत्यम् शिवम् सुंदरम्

Read more...

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP