इसके द्वारा संचालित Blogger.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

पुरवा सुहानी आई रे....

>> 28 जनवरी, 2012

आज माघ शुक्ल की पंचम तिथि यानी बसंत-पंचमी है, बसंत  पंचमी के आते  ही  बसंत  ऋतु का शुभारंभ हो जाता है  . बसंत ऋतु को ऋतुओं का राजा माना जाता है क्योकि इस मौसम में रंग बिरंगे फूल खिलने से बागों में बहार आ जाती है .खेतों में सरसों के पीले पीले फूल खिलने से किसानों का दिल भी खिल जाता है . आम के पेड़ों में बौर आ जाते है . पतझड़ भी शुरू हो जायेगा लेकिन वृक्षों में नई-नई पत्तियां भी आ जायेगीं . पतझड़ के बाद बसंत यह प्रकृति की विचित्र लीला है .बसंत ऋतु में फिल्म पूरब-पश्चिम का गीत " पुरवा सुहानी आई रे पुरवा ...... " की याद बरबस ही आ जाती है .बसंत-पंचमी की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाओं के साथ आईये आप भी इस गीत का आनंद लीजिये ----  
 

5 टिप्पणियाँ:

Rahul Singh 28 जनवरी 2012 को 7:55 am  

शहरों में कैलेंडर से ही पता चलता है कि बसंत आ गया.

ब्लॉ.ललित शर्मा 28 जनवरी 2012 को 10:07 am  

हमे कल ही पता चला कि वसंत आ रहा है, हसदा के पास सरसों पीली हो रही है।

वसंत पंचमी की शुभकामनाएं

PRAMOD KUMAR 28 जनवरी 2012 को 11:50 am  

बसंत-पंचमी एवं विद्या की देवी सरस्वती जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनायें..........!

PRAMOD KUMAR 28 जनवरी 2012 को 11:50 am  
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP