Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

जेल के कैदियों व प्रहरियों को नशामुक्ति का सन्देश

>> 05 जुलाई, 2012

नशामुक्त समाज से ही बनेगा अपराध मुक्त समाज: अशोक बजाज
 छत्तीसगढ़  जनसम्पर्क रायपुर

राज्य सरकार की विशेष पहल पर छत्तीसगढ़ में केन्द्रीय जेलों और जिला जेलों के कैदियों को नशे के दुष्परिणामों की जानकारी दी जा रही है, ताकि जेल जीवन के बाद वे एक स्वस्थ और बेहतर जिन्दगी जी सकें। इसी कड़ी में रायपुर केन्द्रीय जेल में कैदियों और प्रहरियों के लिए एक विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य भण्डारगृह निगम के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने कहा कि नशा मुक्त समाज का निर्माण होने पर अपराध मुक्त समाज का सपना भी साकार होगा। इससे जेलों, कचहरियों और थानों में भीड़ भी कम होगी।

उन्होंने कहा कि अधिकांश अपराध नशे की बुरी आदतों के कारण होते हैं। अगर समाज में नशाखोरी की प्रवृत्ति पर अंकुश लगाया जा सके, तो कम से कम 75 प्रतिशत अपराध कम हो जाएंगे। श्री बजाज ने कहा कि शराब तथा अन्य मादक द्रव्यों का नशा वास्तव में व्यक्ति के विनाश की जड़ है और समाज की सबसे खतरनाक बुराई है। हमारे देश में अधिकांश अपराध व्यक्ति की नासमझी अथवा गलत आदतों के कारण होते हैं। हमारा देश संस्कृति और वन, खनिज तथा जल सम्पदा की दृष्टि से इतना पुष्ट है कि व्यक्ति सामान्य जीवन जीने के लिए यहां अपराध करने की जरूरत ही नहीं है, लेकिन कई बार नशे की आदत के कारण लोग अपराध कर बैठते हैं और सजा होने पर जेल में आकर उन्हें पछतावा भी होता है।

श्री बजाज ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार की ओर से जेलों में कैदियों को स्ववलंबन के लिए प्रशिक्षण दिया जा रहा है और नशा मुक्त जीवन जीने की भी प्रेरणा दी जा रही है, जो वास्तव में सराहनीय है। उन्होंने तिहाड़ जेल का उदाहरण दिया और बताया कि वहां इस प्रकार के रचनात्मक कार्यक्रमों से कई बंदियों को जेल से छूटने के बाद कार्पोरेट सेक्टर में अच्छी नौकरियां भी मिली हैं। इससे साबित होता है कि अगर इंसान को सही दिशा मिले तो समाज तरक्की कर सकता है। 

हमारी संस्कृति हमें ना अपराध का मौका देती है और ना ही इजाजत


राज्य  भंडारगृह निगम अध्यक्ष अशोक बजाज ने लगातार चलाये जा रहे नशामुक्ति अभियान के अंतर्गत सेन्ट्रल जेल रायपुर में कैदियों को नशामुक्ति का पाठ पढाया तथा नशीले पदार्थो के सेवन से बढ़ रहे अपराधों पर चिंता प्रकट की. उन्होनें कहा कि नशापान के कारण देश का बहुत बड़ा मानव-संसाधन बतौर अपराधी जेलों में बंद है,यदि ये अपराध करने से बच जाते तो घर ,परिवार और देश के विकास में ये भी योगदान कर सकते थे.   श्री बजाज ने कहा कि नशामुक्ति से जेल में कैदियों की संख्या तो कम होगी ही साथ ही साथ अदालत और थाने में लगने वाली भीड़ भी कम हो जाएगी, पुलिस और वकील के काम कम हो जाएगें. उन्होंने कहा कि नशामुक्त होने के लिए हम स्वयं प्रेरक बने तथा समाज को प्रेरणा दें .  श्री बजाज ने कैदियों व प्रहरियों के प्रशिक्षण कार्यक्रम में कहा कि नशा समाज की सबसे बड़ी बुराई है , नशाखोरी के कारण अपराध बढ़ रहें है ,नशे के कारण शारीरिक , मानसिक, आर्थिक तोनों प्रकार के नुकसान हो रहे है. यदि इसे नियंत्रित कर लिया जाय तो 75 % अपराध कम हो जायेंगें.उन्होनें कहा कि भारत में जो भी अपराध होते है वे व्यक्ति की नासमझी अथवा गलत आदतों के कारण होते है , हमारा देश संस्कृति और संपदा से इतना पुष्ट है कि व्यक्ति को सामान्य जीवन जीने के लिए यहाँ अपराध करने की आवश्यकता ही नही है.उन्होंने कहा कि  भारत हर दृष्टि से सम्पन्न राष्ट्र है यहाँ प्रचुर मात्रा में खनिज सम्पदा, जल सम्पदा, भू-सम्पदा एवं वन सम्पदा हैं, धरती से लेकर आकाश तक और आकाश से लेकर पाताल तक अपार खजाना है , यहाँ की मिट्टी सोना उगलती है, हम थोड़ा भी मेहनत करे तो शायद हमें अपराध करने की जरूरत नही पडेगी. लेकिन फिर भी अपराध बढ़ रहे है ,जेल में कैदियों की संख्या क्षमता से अधिक हो गई है. श्री बजाज ने कहा कि हमारे देश की विश्व प्रसिद्द संस्कृति हमें ना अपराध का मौका देती है और ना ही उसकी इजाजत .हमने पूरे जगत के कल्याण की कल्पना की और ‘‘वसुधैव कुटुम्बकम’’ कहते हुए पूरे विश्व को एक कुटुंब माना. हमारी संस्कृति ने ही हमारे देश को जगत गुरू बनाया. 

श्री बजाज ने कहा कि जेल में बंद कैदियों को स्वावलंबी बनाने का कार्य बहुत ही सराहनीय है उन्होंने तिहाड़ जेल का उदाहरण देते हुए कहा कि वहा के अनेक कैदियों को जेल से छूटने के बाद कार्पोरेट क्षेत्र में अच्छी नौकरी मिल गई .इससे सिद्ध होता है कि यदि हम मानव संशाधन को सही दिशा मिले तो समाज तरक्की कर सकता है. कार्यक्रम में आभार प्रदर्शन  जेल अधीक्षक डा. के.के.गुप्ता ने किया.

टू सोल्जर रायपुर  05.07.2012
प्रखर समाचार रायपुर  05.07.2012
 
  पेज-9 ,दिनांक 5 जुलाई 2012

3 टिप्पणियाँ:

प्रवीण पाण्डेय 5 जुलाई 2012 को 9:31 am  

स्तुत्य प्रयास, सामाजिक उत्थान की दिशा में..

Rahul Singh 6 जुलाई 2012 को 7:20 am  

आप और डा. गुप्‍ता दोनों को सादर बधाई.

Ramakant Singh 8 जुलाई 2012 को 10:34 am  

अभिनव और स्तुत्य प्रयास .जिसे निरंतर करना हमारा दायित्व ..

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP