Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

ग्राम सुराज अभियान आईने की तरह

>> 27 अप्रैल, 2012



 राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष ने खोल्हा में लगायी चौपाल

रायपुर, 26 अप्रैल 2012


छत्तीसगढ़ राज्य भंडार गृह निगम के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने प्रदेश व्यापी ग्राम सुराज अभियान के अन्तर्गत रायपुर जिले के अभनपुर विकासखण्ड के ग्राम खोल्हा में चौपाल लगाकर राज्य शासन की योजनाओं की समीक्षा की। श्री बजाज ने चौपाल में ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा ग्राम सुराज अभियान एक तरह से सरकार के लिए आईने के समान होता है, जिसमें जन कल्याणकारी योजनाओं के जरिए गांवों में हो रहे विकास और ग्रामीणों की विभिन्न जरूरतों की झलक देखने को मिलती है। इसके आधार पर सरकार ग्रामीण विकास के लिए और भी बेहतर प्रयास करती है। उन्होंने कहा कि अभियान के दौरान शासन और प्रशासन के प्रतिनिधि हर गांव में पहुंचकर राज्य शासन के विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों से ग्रामीण क्षेत्रों के निवासियों के जीवन में आए बदलाव की जानकारी लेते हैं। अभियान से आम जनता को योजनाओं की समुचित जानकारी भी मिलती है। श्री बजाज ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के नेतृत्व में पिछले आठ वर्षो में प्रदेश के विकास के अनेक नये कीर्तिमान बने हैं। इससे गांवों में खुशहाली आयी है। श्री बजाज ने ग्राम खोल्हा में अनेक हितग्राहियों को विभिन्न योजनाओं के चेक भी बांटे। उन्होंने ग्राम बकतरा और हसदा में भी ग्राम सुराज अभियान को जायजा लिया।

Read more...

गोवा के मुख्यमंत्री से सौजन्य मुलाकात

>> 15 अप्रैल, 2012



छत्तीसगढ़ राज्य भण्डार गृह निगम के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने आज पणजी में गोवा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर पारिकर से सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने श्री पारिकर को छत्तीसगढ़ प्रवास के लिए भी आमंत्रित किया। श्री बजाज वहां राष्ट्रीय सहकारी बैंक प्रबंधन एवं प्रशिक्षण संस्थान बैंगलुरू द्वारा आयोजित सहकारी संस्थाओं के पदाधिकारियों के तीन दिवसीय राष्ट्रीय प्रशिक्षण शिविर में शामिल होने गए थे। शिविर का आज समापन हुआ। श्री बजाज ने गोवा के मुख्यमंत्री को सौजन्य मुलाकात  में छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री डॉ. रमन ंसिंह के नेतृत्व में सहकारिता के माध्यम से किसानों से समर्थन मूल्य नीति के तहत धान खरीदी के लिए की गई व्यवस्थाओं के बारे में बताया। उन्होंने श्री पारिकर को यह भी बताया कि इस वर्ष बीते खरीफ के दौरान राज्य में लगभग 60 लाख मीटरिक टन धान खरीदकर किसानों को करीब छह हजार करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है। छत्तीसगढ़ में एक हजार 333 प्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियां कार्यरत हैं। उनके द्वारा धान खरीदी के लिए एक हजार 888 उपार्जन केन्द्रों की स्थापना की गई है। राज्य सरकार छत्तीसगढ़ के किसानों को सहकारी समितियों और ग्रामीण बैंकों के माध्यम से  वित्तीय वर्ष 2012-13 में मात्र एक प्रतिशत ब्याज पर कृषि ऋणों की सुविधा दे रही है। पिछले वर्ष तक उन्हें मात्र तीन प्रतिशत वार्षिक ब्याज पर यह सुविधा दी गई। डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में राज्य में सहकारी समितियों, ग्राम पंचायतों और महिला स्व-सहायता समूहों के जरिए सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत दस हजार से ज्यादा राशन दुकानों का संचालन किया जा रहा है। सहकारिता आन्दोलन छत्तीसगढ़ में काफी सुदृढ़ है। प्रशिक्षण शिविर में छत्तीसगढ़ के प्रतिनिधि मण्डल में श्री बजाज के  साथ सर्वश्री मिथिलेश दुबे, रमाकांत द्विवेदी, ए.के. लहरे और अरूण पुरोहित भी शामिल थे। DPR

Read more...

विशालकाय इन्टेकवेल

>> 10 अप्रैल, 2012

 (एक समाचार )


निर्माणाधीन इन्टेकवेल का अवलोकन
नया रायपुर क्षेत्र में पानी आपूर्ति के लिए रायपुर जिले के अभनपुर विकासखण्ड के ग्राम टीला-सेम्हरा के पास इन्टेकवेल निर्माण का काम अंतिम चरण में है। इन्टेकवेल के माध्यम से पानी नया रायपुर परियोजना क्षेत्र के ग्राम पचेड़ा के नजदीक बने जल शोधन संयंत्र तक लाया जाएगा। वहां से नया रायपुर में पानी की अपूर्ति की जाएगी। इसके लिए ग्राम टीला के पास महानदी पर एनीकट का निर्माण किया जा चुका है। लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस तथा छत्तीसगढ़ राज्य भण्डार गृह निगम के अध्यक्ष श्री अशोक बजाज ने निर्माणाधीन इन्टेकवेल का अवलोकन किया।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि टीला-सेम्हरा के पास 24 मीटर ऊंचा इन्टेकवेल का निर्माण किया जा रहा है। इसका व्यास 16 मीटर है। महानदी पर बने एनीकट से इन्टेकवेल के माध्यम से पानी लिफ्ट किया जाएगा। इंटेकवेल में छह पम्प लगाए जा रहे हैं। इंटेकवेल का निर्माण लगभग पूर्णता की ओर है। इंटेकवेल से पानी पाइप लाइन द्वारा नया रायपुर के ग्राम पचेड़ा के पास स्थापित जल शोधन संयंत्र तक लाया जाएगा। जल शुध्दिक़रण के बाद पानी नया रायपुर क्षेत्र में भेजा जाएगा।  

Read more...

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP