Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

विश्व के बारह ज्योतिर्लिंग

>> 12 मार्च, 2013


हिन्दू धर्म में भगवान शिव का पूजन लिंगम के रूप में किया जाता है. दुनियाभर में स्थापित असंख्य शिवलिंगों में शिव के 12 ज्योतिर्लिंग सर्वप्रधान हैं . ऐसा स्थान जहाँ स्वयं भगवान शिवजी प्रगट हुए थे उसे ज्योतिर्लिंग माना जाता है . शास्त्रों के अनुसार इन ज्योतिर्लिंगों के दर्शन अत्यंत फलदायी है . ये ज्योतिर्लिंग सोमनाथ, मल्लिकार्जुन, महाकालेश्वर, ओंकारेश्वर, केदारनाथ, भीमशंकर, काशी विश्वनाथ, त्रयंबकेश्वर, वैद्यनाथ, नागेश्वर, रामेश्वर और घृष्णेश्वर है.  इन 12 ज्योतिर्लिंगों के विषय में पुराण में कहा गया है  -- 

सौराष्ट्रे सोमनाथं च श्रीशैले मल्लिकार्जुनम्। उज्जयिन्यां महाकालमोङ्कारममलेश्वरम् ॥
परल्यां वैद्यनाथं च डाकिन्यां भीमशङ्करम्।:सेतुबन्धे तु रामेशं नागेशं दारुकावने ॥
वाराणस्यां तु विश्वेशं त्र्यम्बकं गौतमीतटे।:हिमालये तु केदारं घृष्णेशं च शिवालये ॥
एतानि ज्योतिर्लिङ्गानि सायं प्रात: पठेन्नर:।:सप्तजन्मकृतं पापं स्मरणेन विनश्यति ॥

विश्व के बारह ज्योतिर्लिंग एवं उनकी स्थिति  

भारत के नक्शें में बारह ज्योतिर्लिंग 
चित्र साभार गूगल

3 टिप्पणियाँ:

Ramakant Singh 12 मार्च 2013 को 5:51 pm  

आपको सादर नमन इस शानदार जानकारी के लिये .

chirkut papu 5 नवंबर 2013 को 2:29 pm  

हर हर महादेव

जरा इसे भी देखें
दोस्तों अगर आप की अपनी वेब साईट हे और फेसबुक पर अपना पेज हे तो ये लिंक आपके बहूत काम का हे इस पर जाकर आप अपने वेब साईट और फेसबुक पेज पर हजारों प्रशंशक बुला सकते हें और अपने फेसबुक के पेज पर ज्यादा लाईक्स बडवा सकते हें मुझे इससे अपने फेस बुक पर अभी तक २०० लाइक्स मिले हें और मेरी वेबसाइट पर बहूत हिट्स मिलते हें आप भी अजमाकर देखें
http://admf.cc/?URN7S2Z

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP