Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

फिर वसंत की आत्मा आई,

>> 08 फ़रवरी, 2015


मिटे प्रतीक्षा के दुर्वह क्षण, अभिवादन करता भू का मन ! दीप्त दिशाओं के वातायन, प्रीति सांस-सा मलय समीरण, चंचल नील, नवल भू यौवन, फिर वसंत की आत्मा आई, आम्र मौर में गूंथ स्वर्ण कण, किंशुक को कर ज्वाल वसन तन ! देख चुका मन कितने पतझर, ग्रीष्म शरद, हिम पावस सुंदर, ऋतुओं की ऋतु यह कुसुमाकर, फिर वसंत की आत्मा आई, विरह मिलन के खुले प्रीति व्रण, स्वप्नों से शोभा प्ररोह मन ! सब युग सब ऋतु थीं आयोजन, तुम आओगी वे थीं साधन, तुम्हें भूल कटते ही कब क्षण? फिर वसंत की आत्मा आई, देव, हुआ फिर नवल युगागम, स्वर्ग धरा का सफल समागम ! - सुमित्रानंदन पंत



0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

चिट्ठाजगत

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP