Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

मंज़िल . . .

>> 14 सितंबर, 2016

मंजिल . . .

मुश्किलें जरुर है, मगर ठहरा नही हूँ मैं. मंज़िल से जरा कह दो, अभी पहुंचा नही हूँ मैं.




0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP