Blogger द्वारा संचालित.
ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है * * * * नशा हे ख़राब झन पीहू शराब * * * * जल है तो कल है * * * * स्वच्छता, समानता, सदभाव, स्वालंबन एवं समृद्धि की ओर बढ़ता समाज * * * * ग्राम चौपाल में आपका स्वागत है

दीप पर्व

>> 21 अक्तूबर, 2017

ना जाने इस जिन्दगी की राह में, 
कब कौन अकेला हो जाये ! 
जलाओ एक दोस्ती का दीप ऐसा कि 
हर तरफ सवेरा हो जाये ! 
                                    - अशोक बजाज 


0 टिप्पणियाँ:

एक टिप्पणी भेजें

About This Blog

  © Blogger template Webnolia by Ourblogtemplates.com 2009

Back to TOP